लखनऊ, जेएनएन। सहयोगी अपना दल एस के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही भाजपा ने उप चुनाव में पूरी ताकत झोंक दी है। भाजपा ने बूथों तक अपने समीकरण मजबूत किए हैं। साथ ही विपक्ष की सुस्ती का भी लाभ उठाने में जुटी है। अभी तक सपा, बसपा और कांग्रेस के शीर्ष नेताओं की कोई चुनावी जनसभा नहीं हुई, जबकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत भाजपा के दिग्गज चुनावी क्षेत्रों को कई बार मथ चुके हैं।

बसपा पहली बार उप चुनाव में मुकाबले में है, पर किसी भी क्षेत्र में बसपा अध्यक्ष मायावती की कोई जनसभा नहीं हुई। बसपा की ओर से जारी स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल आकाश आनंद व सतीश मिश्रा जैसे नेता भी सक्रिय नहीं दिख रहे। प्रचार की कमान प्रदेश अध्यक्ष मुनकाद अली और कोआर्डिनेटर ही संभाले हैं। वहीं, सपा प्रमुख अखिलेश यादव झांसी मुठभेड़ जैसे मुद्दों पर आंदोलित तो दिखे लेकिन उप चुनाव में किसी भी क्षेत्र में सक्रिय नहीं दिखे। चुनाव प्रचार में नेता विरोधी दल रामगोविंद चौधरी व प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ही अगुवा बने है।

यही स्थिति कांग्रेस की भी है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी या कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी अभी तक किसी चुनाव क्षेत्र में नहीं गईं। प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, सांसद पीएल पुनिया और पूर्व सांसद प्रमोद तिवारी सहित प्रदेश के अन्य नेता जरूर पसीना बहा रहे हैं। वैसे तो भाजपा से भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का कोई कार्यक्रम नहीं लगा लेकिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल लगातार दौरे पर हैं। अधिसूचना जारी होने से पहले ही मुख्यमंत्री और प्रदेश नेतृत्व ने सभी क्षेत्रों में अलग-अलग बैठक और सभा की। नामांकन के बाद से इनके लगातार दौरे जारी हैं। योगी आदित्यनाथ बुधवार को बाराबंकी की जैदपुर, अंबेडकरनगर के जलालपुर, बहराइच की बलहा और मऊ के घोसी विधानसभा क्षेत्र की चुनावी जनसभा को संबोधित करेंगे।

Posted By: Umesh Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप