लखनऊ, जेएनएन।  महाशिवरात्रि पर शहर के शिव मंदिरों में भक्तों की कतार लगी रही। रुद्राभिषेक तो कहीं दुग्धाभिषेक का क्रम चलता रहा। महामृत्युंजय जाप के साथ शिव चालीसा के स्वर भी गूंजते रहे। दिनभर पूजन, अभिषेक के साथ विशेष अनुष्ठान हुए। शिव भक्ति की धुन पर भक्त थिरकते रहे। जगह-जगह भोलेनाथ की भव्य बरात निकली। जयकारा लगाता हर कंठ बोला, बम-बम भोला...। 

151 लीटर गोमती के जल से बाबा का स्नान
डालीगंज स्थित मनकामेश्वर मठ मंदिर में सोमवार को रात दो बजे से सबसे पहले महादेव का स्नान 151 लीटर गोमती के चंद्रिका देवी घाट से लाए जल से किया गया। उसके बाद देसी घी, दही, शहद, पंचतत्व एवं पंचपुष्प मिश्रित जल से महाभिषेक किया गया। रात 2:30 बजे सेवादार बृजेश ने भगवान शंकर की भस्म महाआरती की। इस भस्म आरती के तुरंत बाद महंत देव्यागिरि ने महाशिवरात्रि की प्रथम प्रात: कालीन मुख्य महाआरती ढोल, ताशा, चिमटा, डमरू, शंख व नगाड़े आदि की धुन पर की। आरती के बाद मंदिर के कपाट भक्तगणों के लिए खोल दिए गए।  मंदिर को पीले वस्त्रों व पुष्पों और इलेक्ट्रॉनिक झालरों से सजाया गया। मंदिर के मुख्य द्वार पर एक बड़ी प्रोजेक्शन स्क्रीन भी लगाई गई थी जिससे गर्भ गृह में होने वाले समस्त धर्मिक अनुष्ठानों का दर्शन सभी ने किया। 

महाशिवरात्रि की सजी झांकी
मोहान रोड स्थित बुद्धेश्वर मंदिर के मुख्य द्वार से चौराहे तक भक्तों की भीड़ बाबा के दर्शन को कतारबद्ध थी। लाउडस्पीकर पर बजते गानों पर भोले भक्त थिरक रहे थे। मंदिर में महाशिवरात्रि की झांकी भी सजाई गई। भंडारा भी लगा। 

महादेव ने पहनी पगड़ी
सदर बाजार स्थित द्वादश च्योर्तिलिंग धाम में भोलेनाथ दूल्हा बनेे और भक्तों ने उनके विवाह की रस्म अदा की। महादेव का पगड़ी, सेहरा पहनाकर श्रृंगार किया गया। महिलाओं द्वारा विवाह गीत भी गाए गए।
 

उज्जैन की तर्ज पर भस्म आरती
राजेंद्र नगर स्थित महाकाल मंदिर में उज्जैन की तर्ज पर भस्म आरती की गई। शाम को शहीद जवानों को नमन करते हुए भोलेनाथ का पंचामृत दुग्धाभिषेक भी किया गया। इसके बाद एक हजार दीपों से महाआरती हुई।

यहां भी उमड़े भक्त
चौक के कोनेश्वर महादेव मंदिर, चौपटिया स्थित छोटा और बड़ा शिवाला में भी शिव भक्तों की कतार लगी रही। एलडीए कॉलोनी स्थित नागेश्वर महादेव मंदिर में पंडित देवी प्रसाद तिवारी के सानिध्य में भक्तों ने पूजन किया। रामचरित मानस का पाठ भी हुआ। कृष्णा नगर स्थित इंद्रेश्वर और सहसैवीर मंदिर में भी हवन पूजन चलता रहा। आलमबाग के मौनी बाबा मंदिर में भी भक्तों की भीड़ उमड़ी। कानपुर रोड स्थित श्री रेतेश्वर महादेव मंदिर में शिव जागरण एवं भंडारा आयोजित हुआ। आलमबाग स्थित अमरेश्वर महादेव मंदिर में 101 लीटर दूध से बाबा का अभिषेक किया गया। सआदतगंज लकडमंडी के पर्वतनाथ शिव मंदिर, राजाजीपुरम ओमकारेश्वर महादेव मंदिर, हसनगंज बावली स्थित टीन वाला शिवाला मंदिर, आलमनगर स्थित आनन्देश्वर महादेव मंदिर में भगवान शिव का रुद्राभिषेक कर पुष्पों से भव्य श्रृंगार व भंडारे का आयोजन किया गया। वहीं राजाजीपुरम सेक्टर 13 के श्री सिद्धेश्वर महादेव मंदिर, रानी लक्ष्मी बाई अस्पताल स्थित श्री नागेश्वर महादेव मंदिर में ठंडाई बांटी गई।
 

सड़कों पर बाबा के बराती 
ठाकुरगंज स्थित प्राचीन कल्याण गिरी मंदिर से शिव बरात निकली। नरही से भी शिव बरात निकाली गई। मुरलीनगर-हुसैनगंज शिव बरात समिति की ओर से शिव बरात निकाली गई। बरात थाना-हुसैनगंज स्थित शिवालय से शुरू होकर शिवाजी मार्ग, लाटूश रोड, कैसरबाग, मुरली नगर होते हुए उदयगंज स्थित शिवालय पहुंची। यहां शकर-पार्वती का विवाह विधि-विधान से संपन्न हुआ। वहीं राजाजीपुरम पालतिराहे से बुद्धेश्वर महादेव मंदिर तक गाजे बाजे के साथ शिव बरात निकाली गई।

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप