लखनऊ, जेएनएन। राजधानी स्थित गुडंबा थाने के पास सोमवार को हुई 5 लाख की लूट की वादराद फर्जी निकली। युवक ने बकायदारों के तकाजे से तंग आकर लूट की झूठी कहानी गढ़ी। पुलिस मामले को शुरू से संदिग्‍ध मान रही थी। एसपी टीजी को मौके पर जांच पड़ताल के लिए भेजा गया। मात्र 3 घंटे में ही युवक का झूठ पकड़ा गया।  

ये है पूरा मामला

दरअसल, सोमवार सुबह कल्याणपुर निवासी ऊमर ने पुलिस को बताया था कि बाराबंकी जमीन की रजिस्ट्री कराने जा रहे थे। तभी बाइक सवार दो बदमाशों ने उसे घेर लिया। लगभग 5.25 लाख रुपयों से भरा बैग छीन लिया और उसकी पिटाई भी की। ऊमर के मुताबिक एक बदमाश ने  हेलमेट तो दूसरे ने नकाब लगा रखा था। वहीं, पुलिस को दृष्ट्या ही ऊमर के बयान पर घटना संदिग्ध लगी।

पूछताछ के दौरान उगला राज 
इंस्पेक्टर गुडंबा रवींद्र नाथ राय को शुरू से ही घटना फर्जी लग रही थी। घटना स्‍थल पर पुलिस ने जांच की।  आसपास के लोगों से पूछताछ भी की लेकिन कहीं से भी घटना के बारे में कुछ पता नहीं चला। इसके बाद पुलिस ने ऊमर से पूछताछ शुरू कर दी। जिसमें उसने सच उगल दिया। 

तकाजों से तंग आकर बनाया प्लान
 ऊमर ने पुलिस को दिए हुए बयान में बताया कि वो रोज रोज के तकाजों से तंग आ गया था। कहीं से 35 हजार तो कहीं से 45 हजार का बकाया था। लगभग एक लाख्‍ा रुपये उसे वापस करने थे। रोज रोज के बकायदारों के फोन से वो परेशान हो गया था और सुबह ही झूठी लूट की साजिश रच डाली।  ऊमर ने बताया कि उसे लगा इससे उसे थोड़े पैसे मिल जाएंगे बाद में धीरे धीरे करके सारे कर्ज चुका देता।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस