लखनऊ, जेएनएन। राजधानी स्थित ठाकुरगंज में मरी माता मंदिर के पास एचसीएल के इंजीनियर शरद निगम की हत्या का पुलिस ने राजफाश किया है। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि शरद का एक युवती से प्रेम प्रसंग था। उसकी प्रेमिका के एक करीबी ने साथी संग मिलकर घटना को अंजाम दिया। 

एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक, टेढ़ी बाजार यहियागंज निवासी एक युवती से शरद के प्रेम संबंध थे। वहीं शरद की प्रेमिका का पड़ोस में रहने वाले कपड़ा व्यापारी सुरेंद्र जायसवाल से भी संबंध थे। सुरेंद्र को जब युवती और शरद के संबंध का पता चला तो उसने सहयोगी के साथ मिलकर इंजीनियर की गोली मारकर हत्या कर दी थी। 

एएसपी पश्चिम विकास चंद्र त्रिपाठी के मुताबिक, शरद की प्रेमिका जब 12 साल की थी, तब से आरोपित सुरेंद्र की उसपर नजर थी। सुरेंद्र अक्सर उसके घर आता जाता था और आर्थिक मदद करता था। शरद युवती का दूर का रिश्तेदार था। करीब दो साल पहले उसकी युवती से दोस्ती हुई और फिर दोनों में प्रेम प्रसंग हो गया।

मिलने से किया था मना
युवती और शरद के बीच नजदीकियों की जानकारी मिलने पर आरोपित ने युवती से कहा था कि वह शरद से मिलना छोड़ दे नहीं तो वह जान दे देगा। युवती सुरेंद्र को अंकल बुलाती थी, जिसे आरोपित फ्लाइट से बाहर घुमाने भी ले जाता था।

 

घटना वाले दिन शरद ने दिया था मोबाइल फोन
एएसपी पश्चिम के मुताबिक, शरद को युवती और सुरेंद्र के संबंधों की भनक लग गई थी। शरद के पूछने पर युवती ने सुरेंद्र को अंकल बताया था। शरद उसकी बातों में आ गया था। घटना वाले दिन शरद युवती से मिलने उसके घर गया था और उसे मोबाइल फोन गिफ्ट में दिया था। वहीं,  सुरेंद्र ने अपने हेल्पर बडग़ांव गोंडा निवासी सूरज कुमार चौहान को युवती के घर के बाहर रेकी के लिए लगाया था। सूरज ने शरद के आने की जानकारी सुरेंद्र को दी। इसके बाद सुरेंद्र बाइक से शरद के घर के बाहर सूरज के साथ इंतजार करने लगा। उसके आते ही सुरेंद्र ने उसके सिर में गोली मार दी थी। सुरेंद्र किसी और को युवती की जिंदगी में नहीं आने देना चाहता था। कुछ साल पहले युवती एक कॉल सेंटर में जॉब करती थी, जहां गोंडा निवासी एक युवक से उसका प्रेम प्रसंग भी हो गया था, जिस पर सुरेंद्र ने युवती पर दबाव बनाकर युवक पर एफआइआर दर्ज करा दी थी।


यह था मामला 
मामला ठाकुरगंज के कैंपबेल रोड स्थित वंशी विहार कॉलोनी निवासी राजेश निगम के इकलौते बेटे एचसीएल में सॉफ्टवेयर इंजीनियर शरद निगम (30) की 23 जुलाई रात बेखौफ बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। शरद ऑफिस से काम समाप्त कर घर लौट रहा था। इसी बीच पहले से घात लगाए बदमाशों ने मरी माता मंदिर के पास पीछे से आकर शरद के सिर में गोली मार दी। गंभीर रूप से घायल शरद को उसके परिवारीजन ट्रामा सेंटर लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था।

 

 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप