लखनऊ (जागरण संवाददाता)। हुसैनाबाद ट्रस्ट की खाली पड़ी संपत्तियों का व्यावसायिक इस्तेमाल किया जाएगा। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने ट्रस्ट को इस बाबत प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए हैं। इससे होने वाली कमाई से ट्रस्ट संचालन में मदद मिलेगी।

जिलाधिकारी ने शनिवार को इमामबाड़े सहित कई ऐतिहासिक महत्व वाले स्थलों का दौरा किया। इस दौरान एडीएम पश्चिमी संतोष कुमार वैश्य और ट्रस्ट के दूसरे अधिकारी और कर्मचारी साथ थे। डीएम ने निर्देश दिए कि ट्रस्ट की जो भी खाली संपत्तियां हैं उनका व्यावसायिक इस्तेमाल किया जाए ताकि जरूरतों को पूरा करने के लिए आर्थिक समस्या अड़े नहीं आए। इसके लिए जल्द ही ट्रस्ट से एक प्रस्ताव बनाने को कहा है।

डिफाल्टर किरायेदारों को आखिरी अल्टीमेटम

डीएम ने ट्रस्ट के डिफाल्टर किरायेदारों को किराया जमा करने का अल्टीमेटम दिया है। डीएम ने कहा कि जो भी किरायेदार इस माह तक किराया नहीं जमा करे उससे कब्जा खाली कराया जाए। सैकड़ों ऐसे किरायेदार हैं, जिन्होंने कई सालों से किराया तक जमा नही किया है। डीएम ने ऐसे सभी किरायेदारों की सूची तलब की है।

कर्मचारियों को वेतन का संकट

हुसैनाबाद ट्रस्ट की आर्थिक हालत ठीक नहीं है। कर्मचारियों को पिछले माह का वेतन अब तक नहीं मिला है। डीएम ने सभी कर्मचारियों का तत्काल वेतन देने के निर्देश दिए।

इफतारी के लिए 19 लाख का बजट

हुसैनाबाद ट्रस्ट ने इस बार रोजेदारों के लिए 19 लाख रुपये का बजट रखा है। एडीएम पश्चिती संतोष कुमार वैश्य के मुताबिक रोजाना करीब छह सौ से अधिक रोजेदारों के लिए इफतारी की व्यवस्था की जाती है। इस बार बजट में तीन लाख रुपये की बढ़ोतरी की गई है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप