झांसी, जेएनएन। AP Sampark Kranti Express: देश की सुपर फास्ट ट्रेन में शामिल आंध्र प्रदेश सम्पर्क क्रांति एक्सप्रेस आज दिन में बड़ी दुर्घटना से बच गई। शुक्रवार को निजामुद्दीन से तिरुपति जाने वाली आंध्र प्रदेश सम्पर्क क्रांति एक्सप्रेस (12708) झांसी के आगे दो हिस्सों में बंट गई।

शुक्रवार को वीरांगना लक्ष्मीबाई झांसी से निकली हजरत निजामुद्दीन-तिरुपति आंध्र प्रदेश सम्पर्क क्रांति एक्सप्रेस बड़े हादसे का शिकार होने से बच गई। तेज गति से बीना की ओर दौड़ रही यह ट्रेन तेज आवाज के साथ दो हिस्सों में बंट गई, जिससे यात्रियों में हलचल मच गई। ट्रेन मैनेजर (गार्ड) को जब भनक हुई तो उन्होंने ट्रेन को रुकवाया। इसके बाद रेल प्रशासन ने घटना स्थल पर पहुंच कर अलग हुए ट्रेन के दोनों हिस्सों को जुड़वाकर उसे गंतव्य के लिए रवाना किया। मंडल रेल प्रबन्धक ने इस मामले की रिपोर्ट तलब की है।

आंध्र प्रदेश सम्पर्क क्रांति एक्सप्रेस (12708) अपने निर्धारित समय से 9 मिनट की देरी से अपराह्न लगभग 11.40 बजे वीरांगन लक्ष्मीबाई झांसी स्टेशन पहुंची। यहां से ट्रेन लगभग 11.50 बजे रवाना हो गई। ट्रेन खजराहा-बबीना के बीच तेज गति से दौड़ रही थी कि अचानक चंदवानी गांव के पास ट्रेन दो हिस्सों में बट गई। एस-3 कोच व उसके पीछे लगे अन्य 11 कोच को छोड़ कर ट्रेन काफी दूर तक आगे निकल गई।

एस-3 में बैठे यात्रियों को ट्रेन के जोड़ के पास से जोरदार आवाज आई तो सभी यात्रियों में हलचल मच गई। सभी 12 कोच थोड़ा आगे जाकर थम गए। ट्रेन मैनेजर को सूचित किया गया, जिसके बाद गार्ड ने वायरलेस की मदद से ट्रेन के लोको पायलट को सूचित किया तथा रेलवे अधिकारियों को भी मामले से अवगत कराया। सूचना मिलते ही झांसी मुख्यालय सहित बबीना के रेल अधिकारी और स्टाफ मौके पर पहुंच गया।

घटना की जानकारी करने पर पता चला कि कोच को आपस में जोड़ने वाले कपलर को लॉक करने वाली पिन टूटने से ट्रेन दो हिस्सों में बट गई। इसके बाद आगे बढ़ गए इंजन के हिस्से वाले कोच को पीछे लाकर पावर यान में लगी अतिरिक्त पिन को लगाकर डिब्बों को जोड़ा गया और ट्रेन को गंतव्य के लिए रवाना किया। इस दौरान ट्रेन लगभग 2.20 घंटे तक घटना स्थल पर खड़ी रही। मंडल रेल प्रबंधक आशुतोष ने पूरे मामले में रिपोर्ट तलब की है।

झांसी से बबीना के बीच तीसरी लाइन का कार्य पूरा होने के साथ इस पर ट्रेन चलाने की अनुमति भी मिल चुकी है। यही वजह रही कि आंध्र प्रदेश सम्पर्क क्रांति एक्सप्रेस जब दूसरे ट्रैक पर खड़ी थी तो वीरांगना लक्ष्मीबाई झांसी से भोपाल, मुम्बई और नागपुर को जाने वाली अन्य ट्रेन को तीसरी लाइन पर डायवर्ट कर बबीना तक पहुंचाया गया। यहां से फिर ट्रेन दूसरे ट्रैक पर आ गई।

Edited By: Dharmendra Pandey