लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश के उन्नाव जनपद का ए‍क प्राथमिक विद्यालय इन दिनों चर्चा में बना हुआ है। निजी विद्यालयों को भी पीछे छोड़ चुके यह विद्यालय पूरे जनपद के लिए एक नजीर साबित हुआ है। हम बात कर रहे हैं सोहरामऊ इंग्लिश मीडियम प्राथमिक विद्यालय की। यहां क्‍लास रूम से लेकर टॉयलेट तक की सुव‍िधाओं व साफ-सफाई को देख अभ‍िभावक भी दंग रह जाते हैं। 

दरअसल, दैनिक जागरण में बीते 15 दिसंबर को (इस सरकारी स्कूल में दाखिले को लगती है सिफारिश) खबर छपने के बाद कस्टम कमिश्नर यूपी-उत्तराखंड वेद प्रकाश शुक्ला ने संज्ञान लिया। इसके बाद एक प्रतिनिधि मंडल से विद्यालय का निरीक्षण कराया। निरीक्षण के उपरांत स्वच्छ भारत मिशन की ग्रांट से विद्यालय का कायाकल्प कराने का निर्णय लिया। विभाग द्वारा विद्यालय के लिए राशि आवंटित कर उसका कायाकल्प कराया गया।

परिषदीय विद्यालयों के लिए नजीर बना: विद्यालय की राष्ट्रीय शिक्षक सम्मान से सम्मानित विद्यालय की प्रधान शिक्षिका स्नेहिल पांडेय ने बताया कि स्वच्छ भारत मिशन के द्वारा कस्टम विभाग ने विद्यालय को अत्याधुनिक बना दिया है। यहां किचन और विद्यालय की वॉल में टाइल्स लगवाए गए हैं। शौचालय में भी टाइल्स और यूरिनल लग गए हैं। वहीं, बच्चों के लिए पानी-पीने के लिए पानी की वायरिंग और 10-15 टोटियां लगवाई गई हैं। पूरे विद्यालय में हरे-भरे पेड़ लगे हैं। विद्यलाय पूरे जनपद ही नहीं सूबे के लिए एक नजीर साबित हो रहा है। सोमवार को विद्यालय के नवीनीकरण का काम पूरा हो गया है।

गांव और अन्य ब्लाक के लोग आते हैं विद्यालय देखने: प्रधान शिक्षिका ने बताया कि कस्टम विभाग द्वारा दी गई ग्रांट से विद्यलाय का बहुत अच्छा नवीनीकरण हुआ है। आलम यह है कि सोहरामऊ ही नहीं अन्य ब्लाकों को शिक्षक और लोग विद्यालय को देखने के लिए पहुंच रहे हैं। विद्यालय की सुंदर इमारत और स्वच्छ, हवा पानी के साथ ही पर्यावरण की दृष्टि से बहुत सुंदर है। विद्यालय की सुंदरता देखते ही बनती है।

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021