लखनऊ, जेएनएन। कोरोना महामारी में तंबाकू का उपयोग इस रोग को और बढ़ावा दे सकता है। ऐसे में, मुंह की साफ-सफाई पर ध्यान देने के साथ ही तंबाकू जैसे जहर को भी अपने जीवन से दूर करना होगा। हर वर्ष एक अगस्त को मनाए जाने वाले ओरल हाइजीन डे पर केजीएमयू में विशेषज्ञों ने मुख स्वच्छता विषय पर चर्चा की।

किंगजार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय का पब्लिक हेल्थ डेंटिस्ट्री विभाग की ओर से आयोजित ओरल हाइजीन डे पर विभाग में गूगल मीट के जरिए स्कूली बच्चों को ओरल हाइजीन से जुड़ी जानकारी देते हुए विभागाध्यक्ष डॉ. विनय कुमार गुप्ता ने कहा कि  इस वर्ष कोरोना महामारी के चलते छात्र स्कूल नहीं जा रहे हैं, इसीलिए इस प्लेटफार्म के जरिए उनको जागरूक किया जा रहा है।

वहीं, इस मौके पर एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. गौरव मिश्र व डॉ. सुमित कुमार ने ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म गूगल मीट के द्वारा लखनऊ यूनिवर्सिटी के मास्टर ऑफ पब्लिक हेल्थ विभाग के छात्रों, डॉक्टर अचल सिंह यादव इंस्टिट्यूट ऑफ नर्सिंग एंड पैरामेडिकल साइंसेज लखनऊ के छात्रों व लखनऊ के कई अन्य विद्यालयों में कक्षा छह से सीनियर सेकेंडरी तक के छात्रों को कोरोना महामारी के समय में मुख स्वच्छता एवं तंबाकू के दुष्प्रभावों से बचाव के उपायों की जानकारी दी। साथ ही उन्होंने टूथब्रश करने के सही तरीके, माउथवॉश व डेंटल फ्लॉस के उपयोग पर जोर दिया गया। साथ ही यह भी बताया कि तंबाकू का उपयोग कोरोना महामारी को बढ़ावा देने में सहायक माना गया है।

कोरोना काल में इस रोग से बचने के लिए माउथ मास्क पहनना, दो गज की दूरी बनाए रखना व समय-समय पर साबुन से हाथ धोते रहना व शारीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाए रखना बहुत जरूरी है। छात्रों को यह भी निर्देश दिए गए कि वे अपने दोस्तों, परिजनों व अन्य लोगों को भी मुख की स्वच्छता व तंबाकू निषेध के बारे में जागरूक करते रहें। वहीं, इस मौके पर विभाग ने शिक्षकों को भी इस विषय में दक्षता प्रदान करने की कार्ययोजना बनाई।

 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस