लखनऊ, जेएनएन। केजीएमयू में जूनियर डॉक्टर के बाद अब कर्मियों में मारपीट का मामला सामने आया है। ऐसे में तीन कर्मियों को नौकरी से निकाल दिया गया है।

गौतमबुद्ध हॉस्टल में तैनात कर्मियों ने सुपरवाइजर ललित पर आए दिन दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया। वहीं, छह अक्टूबर को एक कर्मी को पीट दिया। साथ ही चार कर्मियों को निष्कासन का लेटर थमा दिया। ऐसे में एक जुट संविदा कर्मियों ने कुलपति से सुपरवाइजर की लिखित शिकायत की। प्रॉक्टर प्रो. आरएएस कुशवाहा के मुताबिक, कर्मी ललित को निष्कासित कर दिया गया। वहीं वार्डेन ने मारपीट में शामिल दो अन्य कर्मियों को बाहर निकाल दिया।

पेंशन के लिए पैसा मांगने का आरोप

केजीएमयू के कर्मी गंगा राम चौहान 30 जून को रिटायर हो गए हैं। वह पेंशन के लिए भटक रहे हैं। उनकी पेंशन फाइल तैयार कर नहीं भेजी गई। कई बार चक्कर लगाया। मगर, समस्या का समाधान नहीं हुआ। ऐसे में उन्होंने कुलसचिव को पत्र देकर बाबू पर पैसा मांगने का आरोप लगाया। कुलसचिव राजेश राय ने मामले की जांच कराई। इसमें सेवानिवृत्ति कर्मी का एक इंक्रीमेंट अधिक लगा मिला, जिसे रिवाइज कर पेंशन मिलनी है। इस पर वित्त विभाग ने आपत्ति लगाई है। ऐसे में रिवाइज कर पेंशन जारी करने के निर्देश दिए। 

 

Posted By: Divyansh Rastogi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप