लखनऊ (जेएनएन)। अशोभनीय टिप्पणी के मामले में पुलिस ने वीडियो रिकार्डिंग के जरिए बसपा प्रदेश अध्यक्ष रामअचल राजभर सहित बसपा नेता नौशाद अली व अतर सिंह राव को भाजपा से निष्कासित दयाशंकर सिंह की बहन-बेटी के खिलाफ नारे लगाने में चिह्निंत किया है।

उत्तर प्रदेश के अन्य समाचार पढऩे के लिये यहां क्लिक करें

एसएसपी मंजिल सैनी के मुताबिक चिह्निंत तीनों बसपा नेताओं पर प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फॉर सेक्सुअल ऑफंसेंस (पाक्सो) एक्ट लगाया जाएगा। इसके अलावा १५-१६ अन्य लोग भी भाषण देते नजर आ रहे हैं। उनके बारे में और गहनता से पड़ताल की जा रही है। एसएसपी के मुताबिक बसपा के राष्ट्रीय सचिव महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी भी वीडियो रिकार्डिंग में भाषण देते नजर आ रहे हैं। हालांकि उपलब्ध रिकार्डिंग में वह नारे लगाते नहीं दिख रहे हैं।

उत्तर प्रदेश के राजनीतिक समाचारों के लिए यहां क्लिक करें

अशोभनीय टिप्पणी मामले में दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति सिंह ने साक्ष्य के तौर पर पुलिस को दो सीडी उपलब्ध करा दी हैं। बसपा नेताओं द्वारा किए गए प्रदर्शन के दौरान की वीडियो रिकार्डिंग की दोनों सीडी मुकदमे की विवेचना कर रहे सीओ हजरतगंज अशोक कुमार वर्मा को उपलब्ध करा दी गई हैं। एसएसपी का कहना है कि स्वाति सिंह द्वारा दी गई सीडी का अवलोकन कर विवेचक आगे की कार्रवाई करेंगे। पुलिस कुछ अन्य वीडियो रिकार्डिंग भी हासिल करने का प्रयास कर रही है। सभी वीडियो रिकार्डिंग का अवलोकन करने के बाद ही अन्य आरोपियों की भूमिका को लेकर कुछ भी स्पष्ट रूप से कहा जा सकेगा।

उत्तर प्रदेश के अपराध समाचार पढऩे के लिये यहां क्लिक करें

बताया गया कि पुलिस चिन्हित किए गए आरोपियों को नोटिस देने की भी तैयारी में है। हालांकि पुलिस पहले अपनी लिखापढ़ी व साक्ष्यों को दुरुस्त करने में जुटी है। मामला दो राजनीतिक दलों से जुड़ा होने के चलते पुलिस भी पूरे मामले में एक-एक कदम फूंक-फूंक कर आगे बढ़ा रही है। दूसरी ओर स्वाति सिंह के मुताबिक उन्होंने दो सीडी पुलिस को दी हैं। इनमें एक सीडी में नसीमुद्दीन सिद्दीकी व अन्य नेता भाषण देते नजर आ रहे हैं। स्वाति सिंह ने पुलिस अधिकारियों से साक्ष्यों के आधार पर आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किए जाने की मांग की है।

Posted By: Nawal Mishra