रायबरेली, जागरण संवाददाता। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दरियापुर में इलाज के लिए आनलाइन पंजीकरण की सुविधा शुरू कर दी गई। मोबाइल से एम्स एप के जरिए पंजीकरण करा सकते हैं। जांचों की रेटलिस्ट और रिपोर्ट की जानकारी भी घर बैठे मिल सकेगी।

एम्स में इलाज कराने के लिए पंजीकरण कराना जरूरी है। इसके लिए सुबह से ही यहां मरीजों और तीमारदारों की कतार लग जाती है, ताकि जल्द नंबर लग सके। एम्स प्रबंधन ने आनलाइन पंजीकरण की सुविधा शुरू कर दी है। इसके लिए गूगल प्ले स्टोर से एम्स रायबरेली स्वास्थ्य एप डाउनलोड करना होगा। एप पर क्लिक करने के बाद मोबाइल नंबर या ई-मेल आइडी का विकल्प आएगा। इसे भरने के बाद रोगी के बारे में जानकारी मांगी जाएगी, फिर डाक्टर से समय मिलने का विकल्प आएगा। इस पर क्लिक करने पर ये पूछा जाएगा कि रोगी को किस विभाग में दिखाना है।

उदाहरण के तौर पर जनरल मेडिसिन, फिजीशियन, न्यूरो फिजीशियन आदि। संबंधित विभाग पर क्लिक करने के बाद तारीख का विकल्प आएगा। तारीख नियत करते ही पंजीकरण की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। इसके अलावा एप के होम पेज पर कई आइकन हैं, जिनसे एम्स के डाक्टरों से रोगी टेलीफोन के जरिए परामर्श ले सकते हैं। अस्पताल में जो भी चिकित्सीय जांचें हो रही हैं, उनकी रेट लिस्ट भी देख सकते हैं। ब्लड रिपोर्ट भी इसी एप के जरिए आनलाइन देखी जा सकती है।

क्‍या कहते हैं ज‍िम्‍मेदार  

रोगियों की सुविधा के दृष्टिगत आनलाइन पंजीकरण शुरू करा दिया गया है। ओमिक्रोन वैरिएंट के केस भी बढ़े हैं। आनलाइन पंजीकरण शुरू होने से संक्रमण फैलने की आशंका भी कम ही रहेगी।  - प्रो. अरवि‍ंद राजवंशी, निदेशक एम्स

Edited By: Anurag Gupta