लखनऊ, (जेएनएन)। सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने की तिथि नजदीक आने के साथ ही मौसम में भी तेजी से परिवर्तन होने लगा है। उप्र में बीते चौबीस घंटे से बदली और रिमझिम बारिश के कारण आमजन जीवन अस्त-व्यस्त रहा। गुरुवार को कहीं कहीं बादलों के बीच से सूरज ने झांकने की कोशिश की लेकिन किरणें बिखेरने के प्रयास बौने ही साबित हुई। काले घने बादल एवं वातावरण में अधिक नमी होने के कारण सड़कों पर कीचड़ भी रहा। ठंड भी बरकरार रही। वैसे जम्मू-कश्मीर से चला कोल्ड फ्रंट शुक्रवार को प्रदेश में पहुंच रहा है, जिसके बाद गलन भरी ठंड और बढ़ जाएगी। यही नहीं कोहरे का असर भी अधिक रहेगा, इसके कारण दोपहर बाद ही धूप की संभावना बन रही है।

मध्य उप्र में दिन भर लोग ठिठुरते रहे, शाम को कुछ देर के लिए निकली धूप राहत नहीं दे सकी। सर्दी की चपेट में आने से महोबा में चार लोगों की मौत हो गई। कानपुर नगर में शीतलहर और गलन से लोग बेहाल रहे। इस बीच 5.7 किमी की रफ्तार से हवा चली। बांदा, चित्रकूट, हमीरपुर, महोबा, उरई, औरैया, इटावा, कन्नौज, फर्रुखाबाद, फतेहपुर, उन्नाव व कानपुर देहात में न्यूनतम तापमान 7.8 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहा। पूर्वी उत्तर प्रदेश में पूरे दिन बादल छाए रहे।

सुबह के बाद बारिश तो नहीं हुई लेकिन बारिश सा माहौल बना रहा। सुबह साढ़े आठ बजे तक 2.9 मिमी बारिश रिकार्ड की गई। ऐसे में धूप के दर्शन नहीं हो सके। गोरखपुर में न्यूनतम तापमान 12.6 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। मीरजापुर में वज्रपात से एक व्यक्ति की मौत हो गई। प्रतापगढ़ में ठंड से दो लोगों की मौत हो गई। बुधवार की रात बरसात के बीच ओले पडऩे के बाद गुरुवार को भी आसमान में बादल छाए रहे। मेरठ और आसपास के जिलों में कुछ देर के लिए धूप खिली, लेकिन शाम होते-होते फिर ठंड बढ़ गई।

 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस