लखनऊ (जेएनएन)। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में शैक्षणिक एवं गैर शैक्षणिक पदों की भर्ती पर तात्कालिक प्रभाव से रोक लगा दी है। उन्होंने कहा है कि संपन्न हो चुके साक्षात्कारों के परिणाम अभी घोषित न किए जाएं। विश्वविद्यालय के कुलाधिपति के रूप में राज्यपाल ने कहा है कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा जारी संशोधित विनियमों को परिनियमावली में समाहित करने के बाद शैक्षिक पदों पर चयन प्रक्रिया पुन: नए नियमों के अनुसार प्रारम्भ की जाए। निर्देश दिया है कि जिन अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है, उन्हें  पुन: आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है। 

यह भी पढ़ेंः मुजफ्फरनगर के मदरसे में किशोर को जंजीर में बांधकर दी जा रही थी तालीम

गौरतलब है कि संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी में शैक्षिक पदों पर भर्ती में अनियमितता को गंभीरता से लेते हुए राज्यपाल राम नाईक ने बैठक बुलाई थी। इसमें भर्तियों पर रोक लगाने का फैसला किया गया। राज्यपाल ने बैठक में दीक्षांत समारोह की तारीख पुन: निर्धारित करने को आमंत्रित करने हेतु कहा है। बैठक में विशेष रूप से कुलपति यदुनाथ दुबे, राज्यपाल के सचिव चंद्रप्रकाश, विशेष कार्याधिकारी राजवीर सिंह राठौर एवं कुलपति के विशेष कार्याधिकारी राघवेंद्र मिश्र उपस्थित थे। 

यह भी पढ़ेंः ताज में नहीं आरएसएस व भाजपा वालों के दिमाग में झाड़ू लगाओः औवैसी

Posted By: Nawal Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप