मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

लखनऊ। शामली के मोहल्ला तिमरसा में सफाई कर्मचारी के साथ मारपीट के बाद शामली शहर के हालात बेकाबू हो गए। दोनों संप्रदाय के लोग आमने-सामने आ गए। जमकर मारपीट, पथराव और फायरिंग हुई। इस दौरान बहुसंख्यक वर्ग के तीन मकानों को आग के हवाले कर दिया गया और तीन दुपहिया वाहनों में आग लगा दी गई। बवाल में दोनों तरफ से कई लोग घायल हो गए। शहर में दहशत का माहौल है। समाचार लिखे जाने तक कमिश्नर और आइजी भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच चुके थे।

शामली कोतवाली के मोहल्ला हाजीपुरा निवासी सागर नगरपालिका में संविदा सफाई कर्मचारी है। मंगलवार तीसरे पहर करीब चार बजे वह मोहल्ला तिमरसा में सफाई कार्य कर रहा था। आरोप है कि उसी समय संप्रदाय विशेष के दर्जनभर लोगों ने उसे मारपीट कर घायल कर दिया। हमले में वह बेहोश हो गया। गंभीर हालत में उसे शामली के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस घटना की सूचना पूरे शहर में आग की तरह फैल गई और शहर के सभी बाजार बंद हो गए। सफाईकर्मियों के साथ ही लोगों की भीड़ कोतवाली पहुंची और कोतवाली प्रभारी आरएन सिंह यादव का घेराव कर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की माग की। इसी दौरान भीड़ कोतवाली से निकलकर शिव चौक पर पहुंच गई। गुस्साई भीड़ ने हंगामा-प्रदर्शन करते हुए एक बुलेरो कार पर डंडे बरसाकर क्षतिग्रस्त कर दिया। नाला पटरी सब्जी मंडी के समीप छतों से पथराव व फायरिंग हुई। बहुसंख्यक वर्ग के तीन मकानों को आग के हवाले कर दिया गया। तीन वाहनों में भी आग लगा दी। दोनों तरफ से कईं लोग घायल हो गए। सूचना पर एसपी अब्दुल हमीद, एएसपी अतुल सक्सेना, सीडीओ वीके सिंह व सीओ सिटी प्रकाश कुमार कोतवाली व आदर्श मंडी थाना पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे और लाठिया फटकारकर भीड़ को तितर-बितर कर स्थिति को संभाला। इसके बाद अलग-अलग समुदाय के समीपवर्ती मोहल्ले कलंदरशाह व नंदू प्रसाद के लोगों के बीच जमकर फायरिंग हुई। इसमें कई लोगों के घायल होने की सूचना है। घटना के बाद शहर में साप्रदायिक तनाव बन गया है। पूरे शहर को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप