लखनऊ, जेएनएन। पॉलीटेक्निक छात्र स्वरोजगार को बढ़ावा दे रहे हैं। अधिकतर विद्यार्थी पास आउट होने के बाद खुद की इंडस्ट्री लगाते हैं, जिससे कुछ अन्य लोगों को भी रोजगार मिलता है। इस तरह देश में बेरोजगारी घट रही है। मंगलवार को यह बातें प्राविधिक शिक्षा मंत्री कमल रानी ने कहीं। वह राजकीय पॉलीटेक्निक में आयोजित तीन दिवसीय वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता में मुख्य अतिथि थीं। 

उन्होंने गुब्बारे छोड़कर प्रतियोगिता का शुभारंभ किया। प्रतियोगिता के दौरान 400 मीटर की दौड़ और अन्य प्रतियोगिताएं हुईं। उन्होंने विभाग के अधिकारियों को विद्यार्थियों के साथ सामंजस्य बैठाकर रोजगार के बेहतर विकल्प उपलब्ध कराने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि संस्थान अपने स्तर से कोशिश करेंगे तो ज्यादा से ज्यादा छात्रों को रोजगार से भी जोड़ा जा सकेगा। इस दौरान प्राविधिक शिक्षा परिषद निदेशक मनोज कुमार, सचिव संजीव कुमार सिंह, प्रिंसिपल आरके सिंह व अन्य विभागीय अधिकारी और कर्मचारी मौजूद रहे। इस दौरान विद्यार्थियों ने नाट्य मंचन किया और विभिन्न सांस्कृति कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां दीं। 

नहीं काटा फीता  

इस दौरान बच्चों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का प्राविधिक शिक्षा मंत्री को उद्घाटन भी करना था। वह प्रदर्शनी के पास पहुंचीं तो थाल में कैंची रखकर दी गई। इस पर उन्होंने कहा कि पहले फीता काटकर की जगह हम फीता खोलकर प्रदर्शनी का शुभारंभ करेंगे। क्योंकि हमें काटने का नहीं एक दूसरे को जोडऩे का काम करना है। इसके बाद उन्होंने प्रदर्शनी में रखे रोबोट फॉर वेस्ट मैनेजमेंट मॉडल से नदियों में कचरा निकालने की विधि, विज्ञान और पर्यावरण से संबंधित मॉडल देखे। 

400 मीटर दौड़ में बालिकाओं ने मारी बाजी 

इस दौरान 400 मीटर दौड़ कराई गई, जिसमें इलेक्ट्रानिक्स प्रथम वर्ष की अनीशा सिंह ने प्रथम, मैकेनिकल द्वितीय वर्ष की खुशनुमा ने द्वितीय और सिविल द्वितीय वर्ष की पुनीता चौधरी ने तीसरा स्थान हासिल किया। 

 

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस