सीतापुर, संवाद सूत्र। भूत-प्रेत का साया बताकर किशोरी को धार्मिक स्थल पर रोककर कथित तांत्रिक शारीरिक यातनाएं दे रहा था। मामला सामने आने के बाद पुलिस ने कथित तांत्रिक इश्तियाक को गिरफ्तार कर लिया है। किशोरी के पिता की तहरीर पर उसके विरुद्ध मुकदमा भी लिखा है। बताया जा रहा है कि तांत्रिक इश्तियाक किशोरी को बेल्टों से पीटता था और उसके शरीर को जलती अगरबत्ती से दागता था। इस तरह उसके पूरे शरीर व निजी अंगों को अगरबत्ती से जला दिया है। यह पूरा मामला साहबगंज गांव की मजार पर का है। वैसे साहबगंज व आसपास अन्य गांव वालों का कहना है कि मजार पर इस तरह का वाकया कोई पहला नहीं है। यहां हर सप्ताह के गुरुवार को खासकर महिलाओं की भीड़ जुटती है। वर्तमान में किशोरी अपने घर परिवार की देखभाल में है।

15 वर्षीय किशोरी महोली कोतवाली के एक गांव की है। किशोरी के पिता ने पुलिस को बताया है कि उसकी बेटी 14 जून को मिश्रिख में अपने मौसा के घर गई थी। वहीं, 15 जून को उसके पेट में दर्द उठा तो उसका मौसेरा भाई और भाभी उसे साहबगंज में मजार पर ले गए थे। इस मजार पर पहले से ही मैसेरे भाई की पत्नी को संतान दिलाने के नाम पर कथित तांत्रिक इश्तियाक तंत्र-मंत्र कर रहा था। कथित तांत्रिक ने किशोरी को देखते ही उस पर 11 भूतों का साया होना बता दिया। यह भी कहा, किशोरी काे इलाज के लिए 10 दिनों तक मजार पर रोकना होगा। किशोरी को तांत्रिक की यातनाएं झेलते-झेलते छह दिन हो गए थे कि मामला सामने आ गया।

पिता ने बेटी को कथित तांत्रिक के चंगुल से छुड़ाया

किशोरी के पिता का कहना है कि उसे शनिवार शाम को पता चला था कि उसकी बेटी अपने मौसा के यहां नहीं है बल्कि, साहबगंज में मजार पर है। जिस पर वह रविवार शाम मजार पर पहुंचा था और बेटी की हालत देख वह दंग रह गया। बेहोशी की हालत में वह बेटी का घर लाया और सोमवार सुबह रामकोट थाने आकर कथित तांत्रिक इश्तियाक के विरुद्ध मुकदमा लिखाया है। किशोरी के पिता ने बताया, जब वह मजार पर पहुंचा तो बेटी के इलाज के लिए तांत्रिक सलाह देने लगा। अपनी पहचान के डाक्टर के पास ले जाकर इलाज कराने की सलाह दी थी, पर किशोरी का पिता तांत्रिक की बात नहीं मानी और बेटी को घर ले आया था।

तांत्रिक के डर से लोग विरोध नहीं करते

साहबगंज मजार पर कथित तांत्रिक इश्तियाक अक्सर भूत-प्रेत के नाम पर महिलाओं को यातनाएं देता है। दावा करता है कि वह पिटाई भूत-प्रेतों की करता है। ग्रामीणों के अनुसार, मजार से अक्सर लोगों की चीखें सुनाई देती हैं। ग्रामीण विरोध इस वजह से नहीं करते, क्योंकि इश्तियाक उन्हें डराता, धमकाता है। साहबगंज गांव में भी कई दबंग इश्तियाक का सहयोग करते हैं।

साहबगंज का ही रहने वाला कथित तांत्रिक

रामकोट थानाध्यक्ष संजीत सोनकर ने बताया, कथित तांत्रिक इश्तियाक रहमतपुर गांव के मजरा साहबगंज का ही रहने वाला है। उसका परिवार लखीमपुर खीरी में रहता है। इश्तियाक को गिरफ्तार कर लिया गया है। इसके विरुद्ध पीड़ित किशोरी के पिता की तहरीर पर बेल्टों से पीटने, अगरबत्ती की लौ से जलाना और अंगभंग करने के आरोप में मुकदमा लिखा गया है। उधर, पीड़ित किशोरी का मेडिकल परीक्षण कराकर उसे उसके परिवार के सुपुर्द किया गया है। 

Edited By: Anurag Gupta