लखनऊ, जेएनएन। विशेष अपर सत्र न्यायाधीश संदीप गुप्ता ने धोखाधड़ी व भ्रष्टाचार के एक मामले में पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के शासन काल में कैबिनेट सचिव रहे अनिल संत व उ0प्र0 समाज कल्याण निर्माण निगम लिमिटेड, लखनऊ के तत्कालीन मुख्य महाप्रबंधक आनंद संत को समन जारी किया है। इसी कोर्ट ने भ्रष्टाचार के दूसरे केस में भी आनंद संत के साथ ही उप्र समाज कल्याण निर्माण निगम लिमिटेड, लखनऊ के तत्कालीन प्रबंध निदेशक हीरालाल गुप्ता व देवेंद्र नाथ वर्मा को भी समन जारी किया है। मामले की अगली सुनवायी 17 सितम्बर को होगी। 

बताते चलें कि गत 11 अप्रैल  को भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की इसी विशेष अदालत ने इस मामले में उपरोक्त सभी अभियुक्तों के खिलाफ आईपीसी की धारा 409, 420, 467, 468 व 471 तथा भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 7/13 में संज्ञान लिया था। साथ ही इन सबके खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए शासन को अभियोजन स्वीकृति का पत्र भी जारी किया था।

कोर्ट ने यह आदेश परिवादी सुनील गुप्ता की रिवीजन अर्जी व उनके ओर से दायर एक परिवाद को मंजूर करते हुए दिया था। परिवादी का  आरोप है कि  2002 से 2012 के बीच इन विपक्षीगणों ने बगैर किसी शासनादेश और मौजूदा वित्त नियमों को दरकिनार कर 2176.14 करोड़ का टेंडर अपने चहेतों को जारी किया था।

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस