लखनऊ (जेएनएन)। केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी शुक्रवार को रायबरेली और अमेठी के दौरे पर रहीं। सरकारी-गैरसरकारी कार्यक्रमों में शिरकत करते हुए उन्होंने कांग्रेस पर हमला बोला। कहा, 70 फीसद मिट्टी के मकान कह रहे हैं कि यहां के नुमाइंदों ने दिल से कुछ नहीं किया। उन्होंने पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के पाकिस्तान दौरे पर भी सवाल उठाए। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मानसरोवर यात्रा पर भी तंज कसा। बोलीं, भक्त और भगवान के बीच आस्था का संबंध होता है। न भगवान प्रमाण पत्र मांगते हैं और न ही भक्त। आज जो प्रमाण दे रहे हैं, वे भक्ति नहीं राजनीतिक मार्ग को सशक्त करने का प्रयास कर रहे हैं। 

केंद्रीय कपड़ा मंत्री रायबरेली में शुक्रवार सुबह करीब नौ बजे आईं। बछरावां में कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। इसके बाद वे सीधे लालगंज स्थित रेलकोच कारखाना पहुंचीं। वहां उन्होंने रेल डिब्बों का निर्माण कार्य देखा। वहां से वे अमेठी संसदीय क्षेत्र के सलोन कस्बा स्थित नवीन मंडी में आयोजित पंचायत प्रतिनिधि सम्मेलन में पहुंचीं। वहां कांग्रेस पर हमलावर रहीं। बोलीं, यह तो गांधी परिवार का हिस्सा रहा है लेकिन, दिल से यहां कुछ नहीं किया गया। 70 फीसद कच्चे घर इसका प्रमाण हैं। अब भाजपा सरकार दृश्य बदल देगी। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सारे कच्चे घर पक्के घरों में तब्दील हो जाएंगे।

सिद्धू के पाक दौरे पर कांग्रेस मुखिया चुप क्यों

स्मृति ईरानी ने कहा कि सिद्धू के पाकिस्तान से लौटने के बाद पड़ोसी देश जहर उगल रहा है। सिद्धू ने उसी जनरल को गले लगाया था जो आज जहरीली भाषा बोल रहा है। यही नहीं, वरिष्ठ कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर की सदस्यता खत्म करने का राहुल गांधी ने ढोंग किया था। कांग्रेस नेताओं का पाकिस्तान से संबंध यह दर्शाता है कि कांग्रेस देश के पक्ष में कम और विदेशी ताकतों की ज्यादा चिंता करती है। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष की मानसरोवर यात्रा पर चुटकी ली। कहा, भगवान के दरबार का जो आज सर्टिफिकेट दिखा रहे हैं, वह भक्ति मार्ग नहीं, राजनीतिक सशक्तीकरण की कोशिश है।

Posted By: Nawal Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप