लखनऊ, जेएनएन। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) ने कोरोना से प्रभावित ग्राहकों को राहत देने की पहल की है। इस क्रूर समय की मार झेलने वाले बैंक ग्राहकों को एसबीआइ की ओर से पांच लाख तक का ऋण कवच मुहैया कराया जा रहा है ताकि जरूरतमंद बैंक ग्राहक वित्तीय रूप से खुद को कमजोर न महसूस करें और आपदा की इस घड़ी का डटकर सामना करें। यह कहना था एसबीआइ लखनऊ मंडल के मुख्य महाप्रबंधक अजय कुमार खन्ना का।

एसबीआइ मुख्यालय में उन्होंने कहा कि अप्रैल और मई 2021 के दौरान उपजे हालात को देखते हुए बैंक द्वारा बैंक ग्राहकों की मदद के लिए 11 जून को कवच लांच किया गया था। तब से अब तक लखनऊ मंडल में करीब 14 सौ बैंक ग्राहक इसका लाभ उठा चुके हैं। उन्होंने बताया कि कवच के तहत लिए गए ऋण पर बैंक 8.50 फीसद ब्याज लेगा। वहीं, मोराटोरियम पीरिएड तीन महीने रखा गया है। रिकवरी समय पांच साल तक निर्धारित है। इस सुविधा का लाभ लेने के लिए बैंक ग्राहक को आवेदन के साथ कोविड पाजिटिव रिपोर्ट भी संलग्न करनी होगी।

लागू हुई रीस्ट्रक्चरि‍ंग : सीजीएम अजय खन्ना ने बताया कि आरबीआइ की ओर से रीस्ट्रक्चरि‍ंग किए जाने को लेकर पहले ही दिशा-निर्देश मिल चुके हैं। रीस्ट्रक्चरि‍ंग के तहत बैंक ग्राहकों के लिए ईएमआइ में दो साल की राहत की व्यवस्था दी गई है।

बैंक के सभी कर्मचारियों का टीकाकरण : सीजीएम खन्ना ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए कर्मचारियों का टीकाकरण युद्धस्तर पर कराया गया। इसी का परिणाम है कि एसबीआइ लखनऊ रीजन के करीब सौ फीसद कर्मचारियों को कोरोना वैक्सीन की डोज लग चुकी है।

Edited By: Anurag Gupta