लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने की रफ्तार कम हो गई है। अभी तक संक्रमण फैलने की दर (रिप्रोडक्शन वैल्यू) एक थी, जो अब घटकर 0.9 हो गई है। यानी एक फीसद की दर में एक रोगी एक स्वस्थ व्यक्ति को संक्रमित कर रहा था, लेकिन यह दर घटने के बाद अब एक रोगी दूसरे को पूरी तरह संक्रमित नहीं कर पा रहा।

स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने लोगों से अपील की है कि वे अब भी पूरी सर्तकता बरतें, क्योंकि दूसरे राज्यों में कोरोना संक्रमण की दर कम होने के बाद जब लोगों ने लापरवाही बरती तो संक्रमण भी बढ़ गया। उधर, डॉ.राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष डॉ.विक्रम सिंह कहते हैं कि रिप्रोडक्शन वैल्यू एक से कम होने का सीधा मतलब है कि अब वायरस एक व्यक्ति को संक्रमित नहीं कर पा रहा। अगर यह 0.9 से घटकर 0.5 पर पहुंच जाए तो संक्रमण का प्रभाव काफी काबू में आकर खत्म होने की ओर बढ़ने लगेगा।

उत्तर प्रदेश में पिछले आठ दिनों से लगातार नए रोगी कम मिल रहे हैं और उसके मुकाबले स्वस्थ होने वाले कहीं ज्यादा हैं। यही कारण है कि बीते आठ दिनों में 8,491 मरीज घटे हैं। अब एक्टिव केस घटकर 59,397 हो गए हैं। वहीं अब तक कुल 3.78 लाख रोगियों में से 3.13 लाख स्वस्थ हो चुके हैं। रिकवरी रेट 82.86 फीसद हो गया है। बेहतर रिकवरी रेट के साथ पॉजिटिविटी रेट भी कम है। शुक्रवार को 1.64 लाख लोगों की कोरोना जांच की गई, जिसमें 4,519 यानी सिर्फ 2.7 फीसद ही संक्रमित मिले। दो दिन पहले यह दर 3.16 फीसद और पिछले महीने अगस्त में 4.8 प्रतिशत के आसपास थी।

नए मरीज 4,519, स्वस्थ हुए 6,075 : यूपी में शुक्रवार को कोरोना के 4,519 नए रोगी मिले। यह सितंबर में अब तक मिले सबसे कम मरीज हैं। इससे पहले गुरुवार को 4,674 मरीज मिले थे। वहीं शुक्रवार को भी लगातार आठवें दिन बीमार होने वालों से ज्यादा 6,075 मरीज ठीक हुए। अब एक्टिव केस घटकर 59,397 हो गए हैं। इतने मरीज 20 दिन पहले पांच सितंबर को थे। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस