लखनऊ, राज्य ब्यूरो। दशहरा व दीपावली का त्योहार मनाने की घर-घर तैयारियां शुरू हैं। इन त्योहारों का मजा अवैध शराब कहीं किरकिरा न कर दें, इसको लेकर आबकारी विभाग सतर्क हो गया है। प्रदेश भर में विशेष प्रवर्तन अभियान शुरू किया गया है, जो पांच नवंबर तक चलेगा। अभियान के तहत हर जिले में डीएम व एसपी ने आबकारी, पुलिस व प्रशासन की संयुक्त टीमें गठित कराई हैं, ये टीमें नियमित छापेमारी करेंगी। शराब के अवैध कारोबार में लिप्त लोगों पर एफआइआर दर्ज होगी।

त्योहारों के मौसम में शराब की मांग भी बढ़ जाती है। किसी भी तरह से सस्ती शराब पाने का प्रयास होता है, इस वजह से अवैध व नकली शराब का उत्पादन, बिक्री व तस्करी बढ़ जाती है। अवैध कारोबार से सरकार को राजस्व का नुकसान होता है और जनहानि होने की भी आशंका रहती है। अपर मुख्य सचिव आबकारी संजय आर भूसरेड्डी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अवैध शराब का उत्पादन, बिक्री व तस्करी के विरुद्ध कठोर कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए हैं।

आबकारी मंत्री रामनरेश अग्निहोत्री के निर्देश पर विशेष प्रवर्तन अभियान शुरू किया गया है। उन्होंने बताया कि अवैध शराब के चिन्हित स्थानों पर छापेमारी के अलावा राष्ट्रीय व राजमार्गों पर खुले ढाबों की निगरानी होगी। इसके अलावा आबकारी दुकानों पर उपलब्ध स्टाक भी जांचा जाएगा। भूसरेड्डी ने बताया कि मुख्य मार्गों पर वाहनों की चेकिंग हो रही है, ताकि अवैध शराब की तस्करी न हो सके। इस कारोबार में लिप्त माफियाओं के विरुद्ध आबकारी अधिनियम की धाराओं के साथ ही एफआइआर दर्ज कराते हुए कठोर कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है।

प्रदेश की सीमाओं पर विशेष चौकसीः आबकारी आयुक्त सेंथिल पांडियन सी ने बताया कि अभियान में ईंट-भ_ों, बहुत दिन से बंद पड़ी फैक्ट्रियों, गोदामों, खंडहर व औद्योगिक क्षेत्र के संदिग्ध गोदामों, कोल्ड स्टोरेज, आरओ वाटर प्लांट, पेंट व थिनर की दुकानों की सघनता से जांच करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा हरियाणा, नेपाल व उत्तराखंड की सीमावर्ती क्षेत्रों में चौकसी बरतने के कड़े निर्देश दिए गए हैं।

Edited By: Vikas Mishra