लखनऊ, राज्य ब्यूरो यूपी में अगले साल होने वाले विधान सभा चुनाव से पहले सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच जबरदस्त खींचतान शुरू हो गई है। सत्ताधारी दल को घेरने में विपक्षी दल कोई कसर नहीं छोड़ रहे। अपने क्षेत्र में दो सड़कें न बन पाने से नाराज अमेठी के गौरीगंज विधान सभा क्षेत्र से सपा विधायक राकेश प्रताप सि‍ंह रविवार को विधान सभा की सदस्यता से इस्तीफा देंगे और अनशन पर बैठ जाएंगे। बीते दो अक्टूबर को उन्होंने अल्टीमेटम दिया था कि अगर 31 अक्टूबर तक सड़क का निर्माण कार्य शुरू नहीं हुआ तो वह इस्तीफा दे देंगे। रविवार को यह समय-सीमा पूरी हो रही है।

शनिवार को राजधानी में प्रेस क्लब में पत्रकारों से बातचीत में विधायक राकेश प्रताप सि‍ंह ने बताया कि वह रविवार को सुबह 11 बजे विधान सभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित को इस्तीफा सौपेंगे और इसके बाद हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा के समक्ष अनशन पर बैठ जाएंगे। उन्होंने बताया कि गौरीगंज में कादूनाला से थौरी और मुसाफिरखाना से पारा मार्ग का निर्माण होना है।

21 दिसंबर 2018 को सीएम योगी आदित्यनाथ ने इन दोनों सड़कों के निर्माण के निर्देश दिए थे। बाद में यह मामला प्राक्कलन समिति के समक्ष भी उठा। उन्होंने कहा कि अधिकारियों के आगे सरकार नतमस्तक है। आगे उनका राजनीतिक भविष्य क्या होगा ? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जीवन पर्यंत सपा का सदस्य रहूंगा और अगले साल होने जा रहे विधान सभा चुनाव में सपा के टिकट पर ही चुनाव लड़ेंगे। मालूम हो कि दैनिक जागरण ने शनिवार के अंक में दीपावली से पहले ही होगा राजनीतिक विस्फोट शीर्षक से खबर प्रकाशित कर विधायक द्वारा इस्तीफा दिए जाने की जानकारी सबसे पहले दी थी।

Edited By: Anurag Gupta