मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जेएनएन, लखनऊ। एसटीएफ और जिला पुलिस ने रविवार को मुरादाबाद, बिजनौर, प्रयागराज, वाराणसी व अन्य जिलों में उत्तर प्रदेश राज्य शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी) में सॉल्वर गिरोह के सात सदस्यों समेत 43 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें बड़ी संख्या सॉल्वरों की है जो दूसरे के स्थान पर परीक्षा दे रहे थे। कोचिंग संस्थानों से जुड़े लोग भी पकड़े गए। फिलहाल प्रशासन की कोशिश परीक्षा की पवित्रता पर सेंध लगाने की तैयारी विफल कर अपेक्षाकृत साफ सुधरा माहौल देने की रही।

फर्जी आइडी कार्ड और टीईटी के फर्जी पेपर 

एसटीएफ को सबसे बड़ी सफलता मुरादाबाद और बिजनौर में मिली जहां सॉल्वर गिरोह के सात सदस्यों को पकड़ा गया। इनके कब्जे से फर्जी आइडी कार्ड, मोबाइल और टीईटी के फर्जी पेपर मिले हैं। एसटीएफ के अनुसार ये सभी पेपर लीक और सॉल्वर के जरिये परीक्षा में सेंध लगाने की तैयारी कर रहे थे। छह आरोपितों को पुलिस ने मझोला थाने के हवाले कर दिया, जबकि एक को मेरठ एसटीएफ ले गई। पुलिस ने बुलंदशहर में भी तीन सॉल्वर पकड़े हैं। एसएसपी एसटीएफ अभिषेक सिंह ने बताया कि यूपी टीईटी में एसटीएफ बरेली और मेरठ की संयुक्त टीम ने कार्रवाई की। बरेली में इंस्पेक्टर अजय पाल ने बुध बाजार में छापा मारकर मिथलेश निवासी सोहजना, थाना गिदौयू, जमुई (बिहार) और शिप्पू कुमार निवासी रान्हन, थाना सिकंदरा, जमुई (बिहार) को गिरफ्तार कर लिया। उनकी निशानदेही पर परीक्षा केंद्र वीकेएस पब्लिक स्कूल में छापा मारकर सौरभ अस्थाना निवासी कल्याणपुर, कानपुर और विपिन कुमार निवासी धगवा, थाना एटा, जालौन को पकड़ लिया।

राजकुमार की जगह सौरभ 

सौरभ अमरोहा के हासिमपुर आदमपुर निवासी राजकुमार की जगह परीक्षा दे रहा था, जबकि विपिन अमरोहा के डिडौली क्षेत्र के खरखोदा निवासी राजपाल के स्थान पर बैठा था। टीम ने कालेज के बाहर घूम रहे जितेंद्र सैनी और सचिन को भी गिरफ्तार कर लिया। इनके कब्जे से एक कार, फर्जी आइडी, मोबाइल और 22 हजार रुपये मिले हैं। सीओ ब्रजेश सिंह के नेतृत्व में एसटीएफ ने बिजनौर के शेरकोट स्थित सरस्वती दुर्गा महाविद्यालय के बाहर से राकेश सिंह निवासी नारायणपुर, ठाकुरद्वारा, मुरादाबाद को पकड़ लिया। राकेश के कब्जे से फर्जी टीईटी का पेपर छह एडमिट कार्ड और दो मोबाइल के साथ एक लाख रुपये मिले हैं।

 कहां से पकड़े गए कितने साल्वर

    • एसटीएफ -   9
    • प्रयागराज -   10
    • हरदोई-       8  
    • बुलंदशहर-    5 
    • जौनपुर -      1
    • बनारस -      1 
    • श्रावस्ती-      1 
    • कौशाम्बी-     1 
    • जालौन-       1  
    • अलीगढ़-      1  
    • भदोही -       1 
    • फीरोजाबाद-   2 
    • महाराजगंज-   1
    • फैजाबाद-      1 

सॉल्वर गैंग लीड कर रहा मनीष भागा

मुरादाबाद में सॉल्वर गिरोह को मनीष गर्ग लीड कर रहा था, जबकि राकेश मेरठ क्षेत्र को लीड कर रहा था। राकेश को मेरठ एसटीएफ ने पकड़ लिया है, जबकि मनीष गर्ग होटल से भागने में कामयाब हो गया। मनीष गर्ग कल्याणपुरी कानपुर का रहने वाला है, जो अपने साथ बड़ी संख्या में सॉल्वर लेकर आया था।बुलंदशहर में पुलिस ने राजकीय इंटर कालेज में एक परीक्षार्थी के स्थान पर परीक्षा देते शातिर को दबोच लिया। आरोपित युवक तेजेंद्र गिरी निवासी सलेमपुर का है, जो शिकारपुर तहसील के बरौली गांव निवासी तेजेंद्र ङ्क्षसह के स्थान पर परीक्षा दे रहा था। सिकंदराबाद तहसील के केंद्र एमएस इंटर कालेज से कपिल निवासी सलेमपुर को पकड़ा जो राहुल पंवार के नाम से परीक्षा दे रहा था। पुलिस ने बुलंदशहर मुस्लिम इंटर कालेज से बबलू कुमार निवासी अलीगढ़ को पकड़ा है, जो नरेंद्र सिंह के स्थान पर परीक्षा दे रहा था।

साल्वर बैठाने वाले को भी गिरफ्तार

प्रयागराज में हंडिया के शिव बहादुर उसकेभाई शिव शंकर और भदोही के नीतीश कुमार समेत आधा दर्जन सॉल्वर गिरफ्तार हुए। प्रतापगढ़, कौशांबी में भी गिरफ्तारियां हुईं। वाराणसी में दूसरे के स्थान पर परीक्षा दे रहा युवक पकड़ा गया। पुलिस ने साल्वर बैठाने वाले को भी गिरफ्तार कर लिया है। पकड़े गए युवक का नाम बिट्टू कुमार निवासी बेलू, मुरलीगंज मधेपुर, बिहार है। वह गाजीपुर के सुशील कुमार के नाम पर परीक्षा देने आया था। भदोही में कान में डिवाइस लगा कर परीक्षा दे रही महिला पकड़ी गई तो जौनपुर में दूसरे स्थान पर परीक्षा दे रहा अभ्यर्थी पकड़ा गया। मीरजापुर में तो एक फर्जी डॉक्टर पकड़ा गया जो 200 रुपये लेकर प्रमाण पत्र सत्यापित कर रहा था। पुलिस प्रवक्ता के अनुसार प्रदेश के विभिन्न जिलों से 43 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

 

Posted By: Nawal Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप