लखनऊ, जागरण संवाददाता। राजधानी में दिसंबर में होने वाले राष्ट्रीय अधिवेशन को लेकर सहकार भारती की जिला महिला टोली की रविवार को हुई बैठक में ग्रामीण महिलाओं के स्वावलंबन पर चर्चा की गई। माल एवेन्यू स्थित उत्तर प्रदेश सहकारी आवास निर्माण एवं वित्त निगम के सभागार में हुई बैठक में अधिवेशन को लेकर महिला कार्यकर्ताओं को दायित्व सौंपे गए। स्वयं सहायता समूहों में कार्यरत महिलाओं को गोवंश संवद्र्धन के माध्यम से आर्थ‍िक लाभ प्राप्त करने के तरीके बताए गए। सहकार भारती की राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य मीनाक्षी राय की अध्यक्षता में हुई बैठक में मुख्य वक्ता किसान आयोग के सदस्य श्याम बिहारी गुप्ता ने कहा कि चुनौतियां बहुत हैं लेकिन निदान ग्रामीण महिलाओं के पास है। गांवों में महिलाएं घर चलाने के साथ ही स्वयं सहायता समूह बनाकर स्वावलंबी हैं और समाज की सहायता भी कर रही हैं। वे ही शहरी लोगों को भोजन-राशन मुहैया करा रही हैं।

गोवंश संवद्र्धन जागरूकता को लेकर लंबे समय से कार्य करने वाले एवं आइआइटी नई दिल्ली व खडग़पुर से फेलोशिप प्राप्त कर चुके श्याम बिहारी गुप्ता ने अपने अनुभवों को साझा किया। उन्होंने कहा कि अब वे इस दिशा में कार्य कर रहे हैं, जिससे देशी गाय के गोमूत्र और गोबर की बिक्री होने लगे। तब लोग देशी गायों को पालेंगे और बूढ़े गोवंश को भी नहीं बेचेंगे, तभी वास्तविक राम राज्य आएगा। बैठक में प्रदेश उपाध्यक्ष सुमन शुक्ला, प्रदेश मंत्री नीलम प्रजापति, प्रदेश स्वावलंबन प्रमुख विनीता पांडेय, प्रदेश महामंत्री डा. प्रवीण सिंह जादौन, उपाध्यक्ष वीरेंद्र पांडेय व देवेंद्र स्वरूप वर्मा, संगठन प्रमुख राजदत्त पांडेय, सह संगठन प्रमुख गजेंद्र अवस्थी व शिवेंद्र प्रताप सिंह, प्रचार प्रमुख सचिन शुक्ला, सर्व प्रकोष्ठ प्रमुख देवेश प्रताप सिंह समेत कई पदाधिकारी शामिल हुए।

Edited By: Rafiya Naz