गाजियाबाद (विजय मिश्र)। कांग्रेस पार्टी और गांधी परिवार पर झूठे आरोप लगाना भाजपा नेताओं का शगल हो गया है। राहुल गांधी पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी द्वारा लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं। किसानों की जमीन हड़पने का आरोप लगाने वाली स्मृति ईरानी को पहले यह बताना चाहिए कि वह कितनी पढ़ी हुई हैं और उनके पास कितनी फर्जी डिग्री हैं। सोमवार की शाम दूधेश्वरनाथ मंदिर में पूजा अर्चना करने आए कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह ने पत्रकारों के साथ यह बातें कही।

उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी कांग्रेस की मुखिया हैं और उन्हें ही यह तय करना है कि राहुल गांधी कब पार्टी अध्यक्ष बनेंगे। मेरी व्यक्तिगत राय यही है कि युवा हाथों में पार्टी की कमान आनी चाहिए। शेयर बाजार में आए भूचाल को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ ट्वीट करने वाले दिग्विजय ने कहा कि मोदी सरकार कारपोरेट जगत के साथ भी धोखा कर रही है। शेयर बाजार में सोमवार को मची मारकाट इसका संकेत है। रिजर्व बैंक के गवर्नर पहले से ही कह रहे थे कि गिरावट होने वाली है। इसका क्या अर्थ लगाया जाए। वित्त मंत्री और गर्वनर के बीच तालमेल का अभाव है। इसी का नतीजा है कि सिर्फ एक दिन में निवेशकों के सात लाख करोड़ स्वाहा हो गए। आज प्याज, पेट्रोल और बीयर की कीमतें लगभग बराबर है। दाल और चिकन एक रेट पर मिल रहे हैं। ऐसे में इस सरकार से पूछा जाना चाहिए कि लोग शाकाहारी भोजन करें या फिर मांसाहारी। भाजपा पर धर्म की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए दिग्विजय ने कहा कि मांस के निर्यात पर चुनाव से पहले मोदी कहते थे कि उनका दिल चीख-चीख कर रोता है, लेकिन भाजपा सरकार बनने के बाद गोमांस का निर्यात बढ़ा है। ओवैसी भाजपा द्वारा पोषित दूषित मानसिकता का व्यक्ति है। अमित शाह और ओवैसी के बीच संबंध हैं और भाजपा द्वारा उसे पैसा उपलब्ध कराया जा रहा है। कांग्रेस ने कभी धर्म की राजनीति नहीं की, लेकिन भाजपा ने धर्म को ही राजनीति बना दिया है। मध्यप्रदेश और राजस्थान में हुए स्थानीय निकाय चुनाव में हुई हार को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि निकाय चुनाव परिणाम राष्ट्रीय मुद्दों से नहीं जुड़े होते हैं।

मामाजी के पैसे की लगा रहे हैं बोली

प्रधानमंत्री पर तंज कसते हुए दिग्विजय ङ्क्षसह ने कहा कि पैकेज को लेकर कांग्रेस की ङ्क्षनदा करने वाले मोदी अब मामाजी के पैसे की बोली लगा रहे हैं। मोदी को यह बताना चाहिए कि क्या पैसा उनके मामाजी के घर से आया है जो इस तरह से बोली लगा रहे हैं। 50 हजार करोड़, 60 हजार करोड़, 70 हजार करोड़, नहीं सवा लाख करोड़... इस तरह से प्रधानमंत्री द्वारा बोली लगाना एक बेहूदा मजाक है। बिहार की जनता इस भद्दा मजाक के लिए भाजपा को सबक सिखाएगी।

Posted By: Ashish Mishra