लखनऊ, जेएनएन। मऊ के ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि अजीत सिंह के हत्यारोपित शूटर राजेश तोमर ने पुलिस कस्टडी रिमांड पर पुलिस को कई जानकारी दी है। राजेश ने पुलिस को बताया कि गिरधारी के कहने पर उसने अजीत पर गोलियां चलाई थीं। इस दौरान अजीत के साथी मोहर की गोली से वह घायल हो गया था। 20 घंटे की पुलिस कस्टडी रिमांड पर गुरुवार को आरोपित से पूछताछ की गई। शुक्रवार को पुलिस उससे पूर्व सांसद के संबंधों के बारे में जानकारी लेगी। 

पुलिस का कहना है कि आरोपित राजेश कुख्यात माफिया सुनील राठी का गुर्गा है। पुलिस अब यह पता लगा रही है कि अजीत हत्याकांड में सुनील राठी की भूमिका है या नहीं। पुलिस ने राजेश से दिल्ली में उसे किसने शरण दी थी और किन लोगों ने उसका इलाज कराया था। इसके बारे में पूछताछ की। कई सवालों के जवाब आरोपित ने नहीं दिए और टालमटोल करता रहा। गौरतलब है कि छह जनवरी को अजीत सिंह की विभूतिखंड में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्याकांड का आरोपित गिरधारी पुलिस मुठभेड़ में मारा गया था। 

यह है मामला: गौरतलब है कि छह जनवरी 2021 को अजीत सिंह की विभूतिखंड में कठौता चौराहे के पास गैंगवार में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। अजीत आजमगढ़ के विधायक रहे सर्वेश सिंह हत्याकांड में गवाह थे। इस मामले में पुलिस ने धनंजय सिंह को साजिश का आरोपित बनाया था। धनंजय पर 25 हजार का इनाम है और वह पुलिस की लापरवाही से फरार है। 

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021