लखनऊ, जेएनएन। यूपी में कोरोना वायरस से बचाव के लिए अब तीन दिनों में साढ़े सात लाख फ्रंटलाइन वर्करों को टीका लगाया जाएगा। 11 फरवरी, 12 फरवरी और 18 फरवरी को होने वाले टीकाकरण की तैयारियां तेज कर दी गई हैं। कुल आठ लाख फ्रंटलाइन वर्करों में से अभी तक 55,935 को टीका लगवाने के लिए बुलाया जा चुका है और इसमें से 36,395 ने वैक्सीन लगवाई। टीकाकरण से छूटे लोगों को बाद में मॉपअप राउंड में फिर से मौका दिया जाएगा।

आठ लाख फ्रंटलाइन वर्करों में पुलिसकर्मी, राजस्व कर्मी व नगर निगम कर्मी आदि शामिल हैं। जिन फ्रंटलाइन वर्करों को टीका लगाया जाना है, उनका कोविन पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराया जा चुका है। अब टीकाकरण के शेड्यूल में शामिल लोगों के अतिरिक्त नए लोगों को भी टीका लगाने के आदेश हैं। उनका पंजीकरण कोविन पोर्टल पर कर टीका लगाया जा सकेगा। प्रदेश को अब तक 20 लाख डोज से अधिक वैक्सीन मिल चुकी है।

छूटे 2.63 लाख स्वास्थ्य कर्मियों को अंतिम मौका

प्रदेश के नौ लाख स्वास्थ्य कर्मियों में से अभी तक छूटे 2.63 लाख स्वास्थ्य कर्मियों को 15 फरवरी को टीका लगाने के लिए आमंत्रित किया जाएगा। पहले चरण में छह दिन चले टीकाकरण में यह स्वास्थ्य कर्मी टीका लगवाने नहीं पहुंचे थे। मॉपअप राउंड में जो चूक गया, उसे दोबारा मौका नहीं मिलेगा। इस दिन उन स्वास्थ्य कर्मियों को दूसरी डोज दी जाएगी, जिन्हें 16 जनवरी को पहला टीका लगाया गया था।