लखनऊ, जेएनएन। कोरोना वायरस के सामुदायिक संक्रमण (कम्युनिटी स्प्रेड) का पता लगाने के लिए उत्तर प्रदेश के 11 जिलों में सीरो सर्वे शुक्रवार से शुरू होकर आठ सितंबर तक चलेगा। पहले यह छह सितंबर तक ही पूरा होना था, लेकिन अब दो दिन और बढ़ा दिए गए हैं। सीरो सर्वे जिन जिलों में होगा, उनमें लखनऊ, कानपुर, गोरखपुर, आगरा, गाजियाबाद, बागपत, मुरादाबाद, मेरठ, वाराणसी, प्रयागराज व कौशांबी शामिल हैं। प्रत्येक जिले में अलग-अलग आयु वर्ग के लोगों के खून के नमूने लिए जाएंगे और नमूनों की जांच किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) लखनऊ में होगी।

सीरो सर्वे के लिए गुरुवार को द्वितीय चरण का प्रशिक्षण शुरू किया गया, पांच सितंबर तक चलेगा। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ.डीएस नेगी ने बताया कि सर्वे के लिए तैयारी पूरी कर ली गई है। जिले अपनी-अपनी तैयारी के अनुसार शुक्रवार से लेकर आठ सितंबर तक विभिन्न आयुवर्ग के लोगों के खून के नमूने लेंगे। सीरो सर्वे के साथ हेपेटाइटिस-बी व हेपेटाइटिस-सी की भी जांच होगी। डॉक्टर, लैब टेक्नीशियन, लैब अटेंडेंट, एएनएम और आशा की मदद से यह सर्वे किया जा रहा है।

डॉ.डीएस नेगी ने बताया कि रैंडम रूप से जिले के 45 चयनित स्थानों पर 32 लोगों के खून का नमूना लिया जाएगा। सर्वे में शामिल होने वालों का चयन और उन्हें नमूने देने के लिए प्रेरित करने का काम आशा कार्यकर्ता करेंगी। सर्वे से यह भी पता चल सकेगा कि किस अनुपात में आबादी कोरोना से संक्रमित हुई है। सीरो सर्वे में किसी क्षेत्र में रहने वाले कई लोगों के खून के सीरम की जांच की जाती है।

इस तरह होगा परिवारों का चयन : प्रत्येक सर्विलांस दल चिन्हित चार भागों में से किसी एक भाग में एक मकान से शुरुआत करते हुए आठ मकानों में रह रहे लोगों के नमूने लेंगे। इसमें शुरुआत के छह मकानों में प्रत्येक से 18 वर्ष से अधिक आयु के एक व्यक्ति का खून का नमूना लिया जाएगा। अंतिम दो मकानों में पांच वर्ष से 18 वर्ष की आयु के बीच एक व्यक्ति का नमूना लिया जाएगा। इस तरह सभी चार भागों से कुल 32 नमूने लिए जाएंगे। प्रत्येक क्षेत्र में 16 पुरुष व 16 महिलाओं के नमूने लिए जाएंगे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस