सुलतानपुर, संवाद सूत्र। तीन साल की मासूम के सामने उसकी दादी बुआ की दिन-दहाड़े घर में हत्या कर दी गई। दोहरे हत्याकांड से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। घटना के कारणों का पता नहीं चल सका। पुलिस जांच में जुटी है। स्टेशन वाली गली में रामसुख मौर्य का मकान है। वे कस्बे में ही सब्जी की दुकान लगाते हैं।

मंगलवार को अपरान्ह करीब तीन बजे वे सब्जी लेकर बाजार में दुकान लगाने चले गए थे। घर पर पत्नी शकुंतला व बेटी विजय लक्ष्मी थीं। शाम करीब पांच बजे उनकी तीन साल की नातिन रोते हुए बाहर निकली। उसके हाथ में खून लगा था। इस पर आसपास मौजूद लोग घर के भीतर गए तो वहां का दृश्य देख सन्न रह गए। स्नानघर के सामने मां-बेटी का खून से लथपथ शव पड़ा था।

विजयलक्ष्मी का गला कटा था जबकि शकुंतला के सिर पर किसी भारी वस्तु से चोट पहुंचाए जाने के निशान थे। चारों ओर खून फैला था। रामसुख को इसकी जानकारी दी गई तो वे भागकर घर पहुुंचे। थोड़ी ही देर में पुलिस भी मौके पर पहुंची। कोतवाल अशोक कुमार सिंह ने घटनास्थल पर छानबीन कर इसकी जानकारी अधिकारियों को दी। एसपी सोमेन वर्मा समेत अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे। रामसुख व स्थानीय लोगों से पूछताछ की। एसपी ने बताया कि पुलिस टीमों का गठन किया है, जल्द ही हत्यारों का सुराग लगाकर उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

तीन साल की मासूम गवाह, डीआइजी भी पहुंचेः रामसुख मौर्य के दो बेटे हैं। बड़ा बेटा राजकुमार कोतवाली देहात के कन्हईपुर में पत्नी के साथ ब्यूटी पार्लर चलाता है। करीब चार साल पहले उसकी शादी हुई थी। उसकी तीन साल की बेटी के सामने घटना हुई। वहीं, छोटा बेटा आनंद प्रतापपुर कमैचा विकासखंड में कंप्यूटर आपरेटर है। इस बीच देर शाम अयोध्या परिक्षेत्र के डीआइजी अमरेन्द्र प्रसाद सिंह ने पहुंचकर घटना की जानकारी ली। उन्होंने पीड़ित परिवारजन से काफी देर तक बात कर जल्द घटना के राजफाश का आश्वासन दिया।

Edited By: Vikas Mishra