लखनऊ, जेएनएन। सभी विश्वविद्यालयों में स्नातक व परास्नातक सहित सभी कोर्सेज में सेमेस्टर प्रणाली लागू की जाएगी। यह जानकारी डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने दी। सोमवार को उन्होंने उच्च शिक्षण संस्थानों का भी शैक्षिक कैलेंडर जारी कर दिया। नए सत्र 2019-20 में स्नातक की कक्षाएं 10 जुलाई से और परास्नातक की पढ़ाई 16 जुलाई से शुरू होगी। जरूरी इंतजाम करने के लिए विश्वविद्यालय व डिग्री कॉलेज पांच जुलाई को खोले जाएंगे। प्रायोगिक व मौखिक परीक्षाएं 15 जनवरी से लेकर 15 फरवरी तक होंगी। मुख्य परीक्षाएं पांच मार्च से शुरू होंगी और 30 अप्रैल को खत्म होंगी। रिजल्ट पांच जून को घोषित कर दिया जाएगा। 

डॉ. दिनेश शर्मा ने बताया कि विषम सेमेस्टर की परीक्षाएं नवंबर के चतुर्थ सप्ताह में और विषम सेमेस्टर की परीक्षाएं 10 मई तक करवाई जाएंगी। इस सत्र में 25 दिसंबर से एक जनवरी तक शीतकालीन अवकाश होगा और दो जनवरी से कक्षाएं प्रारंभ की जाएंगी। शैक्षिक कैलेंडर विश्वविद्यालय व डिग्री कॉलेजों की वेबसाइट पर ऑनलाइन किए जाएंगे। डॉ. शर्मा ने बताया कि लखनऊ विश्वविद्यालय व डिग्री कॉलेजों में सेमेस्टर प्रणाली बीए, बीएससी व बीकॉम में लागू की जा चुकी है। जो विश्वविद्यालय बचे हैं, वहां भी इसे जल्द लागू करवा दिया जाएगा। 

शिक्षकों के कमी पूरा करने को रखे जाएंगे रिटायर टीचर 

माध्यमिक स्कूलों, विश्वविद्यालय व डिग्री कॉलेजों में बड़ी संख्या में शिक्षकों के पद खाली चल रहे हैं। कक्षा में पढ़ाई बाधित न हो इसके लिए रिटायर टीचर रखे जाएंगे। 

रोजगारपरक कोर्स पर होगा फोकस 

डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने बताया कि आगे रोजगारपरक कोर्स माध्यमिक स्कूलों, विश्वविद्यालय व कॉलेजों में शुरू किए जाएंगे। वहीं इन्हें कौशल विकास केंद्रों से भी जोड़ा जाएगा। 

विद्यार्थियों की स्कॉलरशिप फंसने की होगी जांच 

बड़ी संख्या में अनुसूचित जाति के विद्यार्थियों का फीस सरकार की ओर से नहीं मिल पाई है। वहीं सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों की भी फीस फंसी है। इसकी जांच होगी और विद्यार्थियों को कठिनाई नहीं होने दी जाएगी। 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस