लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था के लिए डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने जमीन से लेकर आसमान तक चप्पे-चप्पे पर नजर रखने के कड़े निर्देश दिए हैं। इस बार विधान भवन के सामने ध्वजारोहण के मुख्य कार्यक्रम स्थल पर आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) के कमांडो भी चारों तरफ मुस्तैद रहेंगे। डीजीपी ने कहा कि मानव रहित वायुयान, ग्लाइडर व ड्रोन की उड़ानों पर भी सतर्क दृष्टि रखी जाए। कहीं ऐसी कोई गतिविधि नजर आने पर उसकी तत्काल गहनता से छानबीन की जाए। अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन होने के बाद सोशल मीडिया पर कई आपित्तजनक ऑडियो व वीडियो वायरल कर माहौल बिगाड़ने की लगातार हो साजिश को देखते हुए राज्य में स्वतंत्रा दिवस से पूर्व पुलिस की मुस्तैदी बढ़ गई है।

डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने कहा कि गेस्ट हाउस, होटल व धर्मशालाओं की सघन चेकिंग कराई जाए। नए किरायेदारों के सत्यापन की कार्रवाई भी जरूर करा ली जाए। इसके अलावा केमिकल्स की दुकानों की चेकिंग व सत्यापन भी कराया जाए। उन्होंने रेलवे स्टेशन, बस अड्डों व एयरपोर्ट के अलावा सभी प्रमुख स्थानों पर चेकिंग कराने के साथ ही सूबे की सीमाओं पर भी बैरियर लगातार प्रभावी चेकिंग कराए जाने के निर्देश दिए हैं। अस्थायी चेक पोस्ट बनाकर वाहनों की आकस्मिक चेकिंग कराने तथा संदिग्ध व्यक्तियों के आवागमन पर सतर्क दृष्टि रखने को भी कहा गया है।

डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने कहा है कि अधिकारी खुद फील्ड में रहकर सुरक्षा-व्यवस्था का जायजा लेंगे। सभी संवेदनशील स्थानों पर लगातार गश्त के साथ ही संदिग्धों की चेकिंग पूरी मुस्तैदी से कराई जाएगी। लखनऊ के अलावा प्रदेश की सभी सीमाओं पर शनिवार शाम से ही सघन चेकिंग के निर्देश दिए गए हैं। खासकर सोशल मीडिया पर कड़ी नजर रखे जाने को कहा गया है। गोमतीनगर विस्तार स्थित डीजीपी मुख्यालय में शनिवार सुबह आठ बजे ध्वजा रोहण होगा। बताया गया कि यदि मौसम ठीक रहा तो यहां डीजीपी कुछ अराजपत्रित पुलिसकर्मियों को अपने हाथ से मेडल प्रदान कर सकते हैं।

आपित्तजनक व भ्रामक संदेशों पर नजर : अयोध्या में पांच अगस्त को राम मंदिर का भूमि पूजन होने के बाद सोशल मीडिया पर कई आपित्तजनक ऑडियो व वीडियो वायरल कर माहौल बिगाड़ने की लगातार साजिश की जा रही है। केंद्रीय खुफिया एजेंसियों से लेकर पुलिस व एटीएस इसकी छानबीन में जुटी है। एक ओर वर्चुअल नंबरों के जरिए जहर घोलने का प्रयास हो रहा है। दूसरी ओर पुलिस को सभी संवेदनशील क्षेत्रों में पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं। सोशल मीडिया की निगरानी में साइबर क्राइम सेल को लगाया गया है। आपित्तजनक व भ्रामक संदेशों पर नजर रखने के साथ ही उनका खंडन किए जाने की बात भी कही गई है। डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने कहा है कि सोशल मीडिया पर गड़बड़ी करने वालों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। सूबे की सीमाओं पर कड़ी नजर रखने के साथ ही शरारती तत्वों के विरुद्ध समय रहते प्रभावी निरोधात्मक कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए गए हैं। 

कोरोना का बढ़ता संक्रमण बना चुनौती : स्वतंत्रता दिवस की सुरक्षा-व्यवस्था में अब पुलिस लगातार सक्रिय है। ऐसे में उसके सामने लगातार ड्यूटी का दबाव भी है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच पुलिसकर्मियों के सामने सुरक्षा-व्यवस्था संभालने के साथ खुद को सुरक्षित रखने की भी बड़ी चुनौती है। स्वतंत्रता दिवस पर सभी पुलिस लाइन में ध्वजा रोहण के दौरान शारीरिक दूरी का पूरी सख्ती से अनुपालन कराने के निर्देश भी दिए गए हैं। कहीं कोई अतिरिक्त कार्यक्रम नहीं होगा। अब तक प्रदेश में 5600 से अधिक पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें सबसे अधिक जिले व थानों में तैनात चार हजार से अधिक पुलिसकर्मी हैं। वर्तमान में करीब 2400 पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमण से जंग लड़ रहे हैं, जिनमें दो हजार से ज्यादा पुलिसकर्मी जिलों में तैनात हैं। पुलिस की अन्य शाखाओं में भी कोरोना ने दस्तक दी है, लेकिन फील्ड में तैनात पुलिसकर्मियों में कोरोना पॉजिटिव की बढ़ती संख्या चिंता का कारण है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस