लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। अनुसूचित जाति के छात्र-छात्राओं के बैंक खाते में छात्रवृत्ति की रकम अबकी दो बार में आएगी। केंद्र सरकार ने छात्रवृत्ति के नियम बदल दिए हैं। पहले राज्य सरकार छात्रवृत्ति का 40 फीसद धनराशि खाते में भेजेगी, फिर केंद्र सरकार 60 फीसद हिस्सा देगी। पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति में करीब 9.82 लाख एससी छात्रों ने आवेदन किया है।

अनुसूचित जाति के छात्र-छात्राओं को मिलने वाली पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति में केंद्र सरकार ने बदलाव किया है। पहले 90 फीसद हिस्सा प्रदेश सरकार देती थी और 10 फीसद ही केंद्र सरकार देती थी। नए नियमों के अनुसार 60 फीसद छात्रवृत्ति केंद्र सरकार देगी, 40 फीसद प्रदेश सरकार देगी।

केंद्र सरकार ने जो दिशा-निर्देश भेजे हैं, उसके अनुसार पहले प्रदेश सरकार छात्रवृत्ति का ऑनलाइन आवेदन करने वाले छात्रों की जांच करेगी। जितने आवेदन सही पाए जाएंगे, उनके खाते में धनराशि भेजने के बाद छात्रों का विस्तृत विवरण केंद्र सरकार को भेजा जाएगा। इसके लिए 28 फरवरी तक का समय दिया गया है।

केंद्र के निर्देशों के अनुसार समाज कल्याण विभाग इन दिनों छात्रवृत्ति का आवेदन करने वाले छात्रों की जांच कर रहा है। एक-दो दिनों में जांच पूरी होने के बाद 28 फरवरी तक छात्रों के खाते में छात्रवृत्ति की राशि भेज दी जाएगी। इसके बाद छात्रों का विवरण केंद्र सरकार को भेजा जाएगा। केंद्र सरकार बाद में अपने हिस्से की धनराशि देगा।