लखनऊ, जेएनएन। रामपुर जिला प्रशासन के आजम खां को भू-माफिया घोषित करने के साथ ही 80 से अधिक मामलों में नामजद करने के बाद अब समाजवादी पार्टी अपने सांसद के बचाव में उतरी है। समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के बाद अब पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आजम खां के बचाव में कमान संभाली है। अखिलेश यादव सोमवार को बरेली होते हुए रामपुर पहुंचेंगे। जहां पर वह पार्टी के प्रदर्शन में शामिल होंगे। रामपुर जिला प्रशासन की धारा 144 लगाने के बाद इस प्रदर्शन के लिए मुस्तैद है।

करीब सात दर्जन मुकदमों से घिरे पार्टी के सांसद मोहम्मद आजम खां के बचाव में समाजवादी पार्टी संघर्ष की तैयारी में जुटी है। समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के निर्देश पर राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अभियान की कमान संभालते हुए सोमवार को रामपुर कूच का फैसला लिया है। आसपास के जिलों से भी कार्यकर्ताओं को जुटाया जा रहा है। अखिलेश यादव आज रामपुर में रात्रि विश्राम करेंगे और आजम खां और उनके परिवारीजनों से मुलाकात भी करेंगे। इसके अलावा 11 सूत्री मांगों को लेकर एक अक्टूबर को तहसील मुख्यालयों पर होने वाले सपा के धरना-प्रदर्शन में भी आजम का उत्पीडऩ मुख्य मुद्दा होगा।

लगातार मुकदमे दर्ज होने के बावजूद पूर्व मंत्री आजम खां को लेकर सपा की ओर से कोई भी असरदार प्रतिक्रिया नहीं हो रही थी। उनके परिवारीजनों ने मुलायम सिंह से मिल कर मदद की गुहार लगाई तो सपा संरक्षक ने बीती तीन सितंबर को पत्रकार वार्ता में सपाइयों से आजम के समर्थन में आंदोलन के लिए सड़कों पर उतरने का आह्वान किया था। इसके पांच दिन बाद सपा अध्यक्ष अखिलेश ने आजम के पक्ष में उतरने का फैसला लिया है।

सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बताया कि अखिलेश सोमवार सुबह 10 बजे लखनऊ से रामपुर के लिए प्रस्थान करेंगे। रास्ते में मुहल्ला मिरधान, फरीदपुर जिला बरेली में पूर्व विधायक स्व. सियाराम सागर के आवास पर जाकर श्रद्धांजलि देंगे। इसके बाद दोपहर तीन बजे रामपुर के लिए रवाना होंगे। शाम चार बजे रामपुर के पीडब्लूडी गेस्ट हाउस पहुंचेंगे और आजम व उनके परिवारीजनों से भेंट करेंगे। अखिलेश यहीं रात्रि विश्राम भी करेंगे।

अखिलेश यादव ने आरोप लगाया कि बीती नौ अगस्त को जनसमस्याओं को लेकर सपा कार्यकर्ताओं ने जिलों में धरना दिया था परंतु सरकार के कान पर जूं नहीं रेंगी। समस्याओं के समाधान के बजाय एक सितंबर से बिजली दरों में बढ़ोत्तरी कर दी गई। ट्रैफिक सुधार के नाम पर भारी जुर्माना लगाया जा रहा है। बदले की भावना से आजम खां के खिलाफ कार्रवाई हो रही है।

मुलायम की नहीं सुनते सपाई

आजम के मुद््दे को लेकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) भी सरकार विरोधी तेवर अपनाए हुए हैं। प्रवक्ता दीपक मिश्रा ने आजम खां के उत्पीडऩ का विरोध किया। उनका कहना है कि मुलायम के निर्देशों के बाद भी सपाई नहीं सुन रहे और आजम का खुलकर साथ देने से कतरा रहे हैं। 

Posted By: Dharmendra Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप