लखनऊ (जेएनएन)। सोशल मीडिया पर आज शाम गुजरात में नमक फैक्ट्री में हड़ताल संबंधी अफवाहों का साथ पाकर नमक के नखरे बढ़ने लगे और देखते ही देखते दिल्ली एनसीआर से जुड़े उत्तर प्रदेश के शहरों से होकर पूरे प्रदेश की दुकानों पर ग्राहकों की कतारें लगने लगी। कहीं सौ, कहीं डेढ़ सौ तो कहीं ढाई सौ रुपए किलो तक नमक की कीमतें चढ़ गईं। नमक आपूर्ति बाधित होने की अफवाह ने सबसे ज्यादा परेशान करने वाली रही। इसके चलते जमाखोरी और महंगाई दोनों एक साथ नमक की कीमतों पर हावी हो गए। दरअसल, वाट्सएप पर भ्रामक संदेशों के बाद व्यापारियों ने नमक रोक लिया। हालांकि आपूर्ति विभाग से जुड़े अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि नमक की कहीं भी कमी नहीं है। उनकी टीमें स्थिति पर नजर बनाएं हैं। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लोगों से अफवाहों से बचने की अपील की और कहा है कि प्रदेश में नमक की कोई कमी नहीं है।

नमक की कमी नहीं-अखिलेश

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश में नमक की उपलब्धता की कोई कमी नहीं है। इसकी पर्याप्त मात्रा उपलब्ध है। उन्होंने जनता से अपील की है कि इस सम्बन्ध फैलाई जा रही अफवाहों पर कतई ध्यान न दिया जाए और अनावश्यक खरीद से बचा जाए। यादव ने मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद तथा सभी जिला अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि नमक के सम्बन्ध में किसी भी प्रकार की जमाखोरी व कालाबाजारी तथा कृत्रिम अभाव उत्पन्न किए जाने को रोका जाए। इसके लिए सतर्क रहते हुए इस सम्बन्ध में किसी भी प्रकार की शिकायत व सूचना मिलने पर जमाखोरों व कालाबाजारियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। साथ ही, फैलाई जा रही अफवाहों को भी हर-हाल में रोका जाए। उन्होंने कहा है कि सभी जनपदों में जिला पूर्ति अधिकारी नमक की उपलब्धता का विशेष ध्यान रखें।

उत्तर प्रदेश में हाई अलर्ट

अखबारों से शासन को फोन पहुंचे तो वह सक्रिय हुआ और पुलिस को अलर्ट किया गया। एडीजी (कानून व्यवस्था) दलजीत चौधरी ने कहा कि आइजी, डीआइजी, एसएसपी, थानाध्यक्षों को बाजारों में गश्त करने का निर्देश दिया गया है। नमक की कोई किल्लत नहीं है, यह सिर्फ शरारती लोगों द्वारा फैलाई गई अफवाह है। कालाबाजारी करने वाले दुकानदारों पर नजर रखी जा रही है।

बिजनौर में नमक के लिए लाठीचार्ज

प्रदेश के पश्चिमी हिस्से में अफरातफरी के बीच लोग सौ से दो सौ रुपए किलो तक नमक खरीदकर ले जाने लगे। अभी तक अफवाह का शिकार सबसे ज्यादा बिजनौर जिला हुआ। यहां के चांदपुर, किरतपुर, नजीबाबाद, नूरपुर, कस्बा देहात इलाकों में लोगों में नमक खरीदने की होड़ लग गई। दुकानदारों ने भी एक किलो के नमक के पैकेट के सौ से दो सौ रुपये तक वसूले। अफवाह यह भी रही कि जिस तरह से बड़े नोट बंद हो गए हैं, नमक का उत्पादन भी बंद होने जा रहा है। पहले नमक खरीदने को लेकर कुछ स्थानों पर झड़प भी हुई। कई दुकानदार तो नमक का स्टॉक जमा करने के लिए दुकानें बंद कर घर चले गए। कई दुकानों से नमक देखते ही देखते बिक गया। जलीलपुर और राजा का ताजपुर में दो सौ रूपये किलो तक नमक बिका। बिजनौर में नमक की खरीददारी करने आए लोगों को काफी मशक्कत के बाद भी जब पुलिस नहीं संभाल पाई तो पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। जनपद मुख्यालय से लेकर देहात क्षेत्रों में मात्र एक ही घंटें में कई लाख रूपये का नमक हाथो-हाथ बिक गया। इस दौरान कई स्थानों पर जब दुकानदारों ने नमक नहीं दिया तो ग्राहक जबरन गोदाम से कट्टे उठाकर ले गए। उधर डीएम जगतराम त्रिपाठी का कहना है कि नमक की जनपद में कोई कमी नहीं है। यह केवल अफवाह है। लोग अफवाहों पर ध्यान नहीं दें और नमक की जरूरत के अनुसार की खरीददारी करें। अफवाह फैलाने वालों और नमक को ब्लैक करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

लोगों ने खरीदा महंगा नमक

मुजफ्फरनगर जिले में भी कुछ स्थानों पर सौ रुपये किलो तक नमक बिका। मेरठ में तारापुरी, श्यामनगर, इत्तेफाक नगर, किदवई नगर आदि मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में तो नमक के लिए मारपीट तक की सूचनाएं आयीं। जनरल स्टोरों से लोगों ने एक साथ 8-10 पैकेट खरीदना शुरू कर दिया। 17 से 20 रुपये तक मिलने वाला नमक 50 से 100 रुपये तक में बिका। गली-मोहल्ले में छोटे दुकानदारों के पास नमक का स्टॉक खत्म हो गया। मेरठ देहात के किठौर कस्बे में भी महंगे दाम पर नमक बिकने की जानकारी मिली। आस-पास के कुछ अन्य जिलों में भी नमक महंगा होने की अफवाह पर लोग कई गुना महंगा नमक खरीदते दिखे।

परेशान न हों, नमक की कमी नहीं

अफवाहों ने अचानक प्रदेश में नमक की किल्लत पैदा कर दी। इस पर प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद अरविंद देव सिंह कहते हैं कि देश-प्रदेश में नमक की कहीं कोई कमी नहीं है और जनता अफवाहों पर ध्यान न दें। लोग कालाबाजारी की शिकायत करेंगे तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्हीं की तरह लखनऊ व्यापार मंडल के वरिष्ठ महामंत्री अमर नाथ मिश्र भी समझाते हैं कि सोशल मीडिया पर चल रही 'अफवाहों पर ध्यान देने की जरूरत नहीं। बाजार में नमक की कोई कमी नहीं है। लखनऊ व्यापार मंडल के अध्यक्ष हरीशचंद्र अग्रवाल ने भी कहा कि बड़े नोट के बदले खुले रुपये की वापसी के लिए यह भ्रामक जानकारी फैलाई गई है। कहीं भी नमक की कमी नहीं और सब जगह भरपूर स्टॉक है।

गुजरात की नमक फैक्ट्री में हड़ताल

सोशल मीडिया पर शुक्रवार देर शाम गुजरात में नमक फैक्ट्री में हड़ताल संबंधी गलत सूचनाएं चलने के बाद अचानक सभी जिलों व कस्बों की दुकानों पर ग्राहकों की कतारें लग गईं। राजधानी में नमक डेढ़ सौ रुपये किलो तक बिका और बरेली में 250 रुपये किलो तक। बाद में तो सब्जी की कमी की अफवाहें भी उड़ीं और लोगों ने मंडियों में लाइन लगा ली।

नमक की कमी अफवाह

दिल्ली में नमक की कमी की अफवाह से आम आदमी पार्टी सरकार भी चिंतित हो उठी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नमक की कमी को अफवाह बताया है। केजरीवाल ने कहा कि कुछ लोग अफवाह फैला रहे हैं कि नमक और चीनी की कमी है। यह पूरी तरह से गलत है। इसके बाद वह स्वयं दौरे पर निकल पड़े। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी ट्वीट कर कहा कि दिल्ली में नमक की कोई कमी नहीं है। फूड सप्लाई ऑफिसर और एसडीएम की टीमें बाजारों में दौरे पर हैं। हर जगह नमक उपलब्ध है। अफवाहों में न आएं।

यह भी पढ़ें

जूता चुराई की रस्म में साली ने भी नहीं लिया पांच सौ का नोट, बैंक पहुंचा दूल्हा

1000-500 के नोटों की पाबंदी से मायावती ज्यादा बेचैन : उमा भारती

मोदी ने देश में लगा दी अघोषित आर्थिक इमरजेंसी : मायावती

Posted By: Nawal Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस