लखनऊ,जेएनएन।  दिल में इबादत का जज्बा लेकर मस्जिदों में शुक्रवार को रोजेदारों की भीड़ उमड़ी। रोजेदारों ने एक साथ अल्लाह की इबादत में सिर झुकाया। नमाज के बाद रोजेदारों ने देश में अमन व सुकून कायम रहने के लिए दुआ मांगी। इसी के साथ रमजान का तीसरा जुमा भी विदा हो गया, अब अलविदा जुमे का इंतजार है। 

शहर की इबादतगाहों में हजारों की संख्या में रोजेदार नमाज-ए-जुमा अदा करने पहुंचे। रहमतों वाले इस दूसरे अशरे के बीतने के साथ ही रमजान ने अपने अंतिम पड़ाव की ओर दस्तक दे दी है। सोमवार से मगफिरत (गुनाहों की माफी) का तीसरा व अंतिम अशरा शुरू हो जाएगा। रमजान के तीसरे जुमे में जमात शुरू होने से पहले ही नमाजियों की भीड़ मस्जिदों में जुटने लगी।

मस्जिद के इमाम के ‘अल्लाह हो अकबर’ कहते ही रोजेदार नमाज को उठ खड़े हुए। हजारों नमाजियों ने एक साथ नमाज अदा कर रमजान की रहमतों के लिए अल्लाह का शुक्र अदा किया। शहर की सबसे बड़ी जमात टीले वाली मस्जिद व बड़े इमामबाड़े की आसिफी मस्जिद में हुई। आसिफी में शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जवाद और टीले वाली मस्जिद में मौलाना शाह फजले मन्नान ने जुमे की नमाज अदा कराई। नमाज बाद मस्जिदों में विशेष दुआ की गईं।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस