लखनऊ, जेएनएन। सपा शासनकाल में हुई एक और बड़ी भर्ती भी फंस गई है। जल निगम भर्ती घोटाले के बाद विशेष अनुसंधान दल (एसआइटी) की जांच में सहकारिता विभाग की अधीनस्थ संस्था में हुई नियुक्तियों में भी गड़बड़ी सामने आई है।

एसआइटी ने कोऑपरेटिव बैंक के सहायक प्रबंधक के पदों पर हुई नियुक्ति की जांच पूरी कर शासन को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। सूत्रों का कहना है कि ओएमआर (ऑप्टिकल मार्क रीडर) शीट में गड़बड़ी के फोरेंसिक साक्ष्य जुटाने के बाद एसआइटी ने मामले में एफआइआर दर्ज किए जाने की संस्तुति की है। सपा सरकार के पूर्व मंत्री आजम खां के बाद अब इसी सरकार के तत्कालीन सहकारिता मंत्री शिवपाल यादव (वर्तमान में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष) की भी मुश्किलें बढ़ सकती हैं। माना जा रहा है कि अन्य पदों पर हुई नियुक्ति में भी गड़बड़ी की गई थी। उनमें भी जांच एजेंसी जल्द एफआइआर की संस्तुति कर सकती है। 

भाजपा सरकार ने द‍िए थे जांच के आदेश 

सपा शासनकाल में वर्ष 2012 से 2017 के मध्य उप्र सहकारी भूमि विकास बैंक, उप्र राज्य भंडारण निगम व उप्र कोआपरेटिव बैंक लिमिटेड में भर्ती के 49 विज्ञापन जारी हुए थे, जिनमें 40 विज्ञापन के तहत भर्ती की प्रक्रिया पूरी की गई थी। बताया गया कि प्रबंधक, उप महाप्रबंधक, सहायक प्रबंधक, सहायक शाखा आंकिक, सहायक फील्ड आफिसर, सहायक प्रबंधक (कंप्यूटर), वरिष्ठ शाखा प्रबंधक व लिपिक के 2343 पदों पर भर्ती हुई थी। भाजपा सरकार ने अलग-अलग पदों पर हुई भर्ती में धांधली की शिकायतों पर पूरे प्रकरण की जांच कराने का निर्णय लिया था।

30 से अध‍िक हुई थीं न‍ियुक्‍त‍ियां 

शासन ने एक अप्रैल 2012 से लेकर 31 मार्च 2017 तक सहकारिता विभाग में सहकारी संस्थागत सेवा मंडल के जरिये की गईं सभी भर्तियों की जांच एसआइटी को सौंपी थी। इनमें कोआपरेटिव बैंक के सहायक प्रबंधक के करीब 53 पदों पर की गई नियुक्ति भी शामिल थी। सूत्रों का कहना है कि इन पदों पर एक ही विधानसभा क्षेत्र के 30 से अधिक व्यक्तियों की नियुक्ति की बात भी सामने आई है। इस घोटाले में सहकारी संस्थागत सेवा मंडल के तत्कालीन चेयरमैन व अन्य अधिकारियों की मुश्किलें बढ़ेंगी।

निलंबित हुए थे एमडी

भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों से घिरे उप्र कोआपरेटिव बैंक के तत्कालीन प्रबंध निदेशक रविकांत सिंह को शासन ने निलंबित किया था। एसआइटी ने जांच के दौरान बैंक के तत्कालीन एमडी समेत कई अन्य अधिकारियों को हटाने की सिफारिश भी की थी।

 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस