लखनऊ, जेएनएन। ठंड शुरू होते ही सर्दी, जुकाम, खांसी और बुखार की समस्याएं आम हैं। सबसे ज्यादा छोटे बच्चे और बुजुर्ग प्रभावित होते हैं। ऐसे में सर्दियों में मौसमी फलों के सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है। ठंड में इन्हें नियमित रूप से खाने से आप फिट रहेंगे... 

आंवला : आंवले में मौजूद विटामिन सी शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है। वहीं, इसमें पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट शरीर में मौजूद हानिकारक रसायनों को बाहर निकालते हैं। इसके सेवन से ब्लड शुगर नियंत्रित होने के साथ ही एनीमिया से भी बचाव होता है। रोज कम से कम दो आंवले जरूर करना चाहिए। 

पालक : हरी पत्तेदार सब्जियों में पालक सबसे बेहतर माना गया है। इसमें प्रोटीन, विटामिन, आयरन आदि भरपूर मात्रा में होते हैं। चाहे सब्जी के रूप में खा सकते हैं या सूप भी बना सकते हैं।  

गाजर : गाजर में प्रचुर मात्रा में विटामिन और मिनरल्स होते हैं। इसमें विटामिन ए, विटामिन बी, सी, कैल्शियम और फाइबर होता है, जो सर्दियों में कोलेस्ट्रोल लेवल बढऩे नहीं देता। रोजाना गाजर का सेवन या जूस पीने से सर्दी और जुकाम आपसे दूर रहेंगे। 

 

सिंघाड़ा : सिंघाड़े में साइट्रिक एसिड, एमिलोज, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, विटामिन ए और सी, मैगनीज आदि पाया जाता है। ये सर्दियों में खाया जाने वाला अच्छा फल है।

 

चुकंदर : चुकंदर का सबसे बड़ा गुण शरीर में खून बढ़ाना होता है। आयरन के अलावा चुकंदर कई विटामिन से भरपूर होता है। साथ ही इसमें सोडियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस और आयोडीन आदि होता है। चुकंदर का सेवन शरीर से कई हानिकारक तत्व बाहर निकालने में सहायक है।

कब खाना बेहतर ?

भोजन करने के बाद फल नहीं खाने चाहिए। फल भोजन करने से 15 से 20 मिनट पहले या एक घंटे बाद खाना ही बेहतर है, जिससे ये आसानी से पच जाते हैं। सेब, अंगूर और संतरा सुबह नाश्ते से पहले और लंच व डिनर के बीच ब्रंच के तौर पर खाना अधिक फायदेमंद है। सर्दी के मौसम में रात में फल खाने से परहेज करें।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

लोक बंधु राजनारायण संयुक्त चिकित्सालय के पूर्व नोडल ऑफीसर पंचकर्म डॉ. राकेश चंद्र शर्मा का कहना है कि सर्दी के मौसम में प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर बनाना आसान होता है, क्योंकि पाचन प्रक्रिया ज्यादा अच्छी रहती है। ऐसे में पौष्टिक चीजों को अपने आहार में प्रमुखता से शामिल करें। इनसे हम सर्द मौसम की मार झेल पाते हैं। सिंघाड़ा, संतरा, अनार आदि में आयरन, कैल्शियम और फास्फोरस ज्यादा होता है। जूस की बजाए इन्हें इनके वास्तविक स्वरूप में ही ग्रहण करना बेहतर होगा। 

 

Posted By: Anurag Gupta