लखनऊ जागरण संवाददाता। रिफाइंड ऑयल, सरसों का तेल और ढीला हुआ है। वहीं आयात से रोक हटने की वजह से दालों के भाव भी लगातार टूट रहे हैं। 155 रुपये लीटर बिक रहा रिफाइंड ऑयल दस रुपये टूटकर 145 रुपये लीटर पहुंच गया है। वहीं बैल कोल्हू सरसों के तेल का भाव 156 से 160 रुपये लीटर है। जबकि कुछ दिन पहले तेल की कीमतें 175 से 180 रुपये लीटर तक पहुंच गई थी।

थोक मंडी

  • खाद्य तेल-जून (अंतिम हफ्ता)-जुलाई (प्रथम हफ्ता) (भाव 15 रुपये लीटर पीपा )
  • रिफाइंड फॉरच्यून ऑयल-2,150 -2,050
  • बैल कोल्हू -2,250 -2,200

थोक बाजार

दाल-जून अंतिम हफ्ता -जुलाई प्रथम हफ्ता (भाव रुपये प्रति क्विंटल)

  • अरहर दाल पुखराज प्रीमियम-9,250 -9,150
  • सूरजमुखी-9,000 -8,900
  • डायमंड-7,300 -7,250
  • माधुरी- 7,100 -7,050
  • मूंग धुली- 8,200 -8,000
  • उड़द काली-7,400 -7,200
  • उड़द हरी नौगांव-10,500 -9,200
  • देशी हरी उड़द दाल-13,500 -13,000
  • छोला -8,900 -8,600
  • रिफाइंड ऑयल -170 -145 से 150
  • बैल कोल्हू -180 -160

फुटकर बाजार:

  • दाल-जून अंतिम हफ्ता -जुलाई प्रथम हफ्ता (भाव रुपये प्रति किलो)
  • पुखराज प्रीमियम-102 -97
  • सूरजमुखी-98 -94
  • डायमंड छिलके वाली-78 -74
  • माधुरी-75 -72
  • मूंग धुली- 100 -90
  • उड़द काली-85 -78
  • उड़द हरी नौगांव-125 -105
  • देशी हरी उड़द दाल-200 -135
  • छोला-105 -92

(नोट: रेट पांडेयगंज, डालीगंज गल्ला मंडी अध्यक्षों द्वारा दिए गए हैं)।

लखनऊ दाल मिलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष भारत भूषण गुप्ता ने बताया कि आयात से रोक हटने का असर बाजार पर दिखने लगा है। महीनेभर से लगातार दालों के टूटने का सिलसिला जारी है।

आढ़ती पांडेयगंज एवं अध्यक्ष लखनऊ व्यापार मंडल राजेंद्र अग्रवाल ने बताया कि दालों में बडा अंतर आया है। आयात पर प्रतिबंध हटने से बाजार में लगातार गिर रहा है। अरहर के अलावा मूंग और हरी उड़द तक के रेट में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है।

थोक मंडी

खाद्य तेल-जून (प्रथम हफ्ता)-जुलाई (प्रथम हफ्ता)

रिफाइंड ऑयल-2,150 -2,100

बैल कोल्हू -2,250 -2,150

तेल और रिफाइंड कारोबारी विपुल अग्रवाल ने बताया कि खाद्य तेल की कीमतें लगातार गिर रहे हैं। दामों का उफान थमा है। सरसों का तेल और रिफाइंड के दोनों प्रमुख ब्रांड नीचे आ गए हैं।

थोक कारोबारी विपुल अग्रवाल ने बताया कि सरसों के तेल और रिफाइंड ऑयल के भाव लगातार गिर रहे हैं। पांच रुपये का और अंतर आया है। फिलहाल बाजार में खाद्य तेल लगातार टूट रहे हैं।

Edited By: Rafiya Naz