लखनऊ, जेएनएन। Rampur Assembly By Election 2022: उत्तर प्रदेश के तीन उप चुनाव में एक रामपुर विधानसभा उप चुनाव को लेकर काफी गहमा गहमी के बीच में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के कद्दावर नेता आजम खां (Azam Khan) ने मीडिया के सामने भारतीय जनता पार्टी पर बड़ा आरोप लगाया है।

भड़काऊ भाषण देने के मामले में आजम खां को विधानसभा सदस्य पद से अयोग्य घोषित होने के बाद हो रहे उप चुनाव में आजम खां के करीबी आसिम राजा को समाजवादी पार्टी ने प्रत्याशी बनाया है।

आजम खां ने जारी किया वीडियो संदेश

विधानसभा चुनाव में मतदान देने वंचित किए गए आजम खां ने रविवार को मीडिया के समक्ष करीब साढ़े मिनट का वीडियो संदेश जारी किया। उन्होंने रामपुर के लोकसभा के चुनाव और उप चुनाव के बाद अब विधानसभा उप चुनाव में भी बड़ी गड़बड़ी का अंदेशा जताया है।

आजम को अखिलेश और जयंत का इंतजार

उन्होंने कहा कि हम तो समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और राष्ट्रीय लोकदल के मुखिया जयंत चौधरी के रामपुर आने का इंतजार कर रहे हैं। हमको पता चला है कि अखिलेश यादव जी के अलावा जयंत चौधरी और चंद्रशेखर आजाद आने वाले हैं।

भाजपा प्रत्याशी को विजयी घोषित करें

हम तो अखिलेश यादव जी से कहेंगे कि वो चुनाव आयोग से आग्रह करें कि रामपुर में पांच दिसंबर को होने वाले उप चुनाव से पहले ही यहां से भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी आकाश सक्सेना को विजेता घोषित कर दें। अखिलेश यादव जी जब आएंगे तो हम यह आग्रह करेंगे की वो इलेक्शन कमीशन से निवेदन करें कि भाजपा के कैंडिडेट को जीता हुआ घोषित कर दिया जाए। यहां पर तो चुनाव हो ही कहां रहा है। हर तरफ तो दशहत का माहौल बना है।

रामपुर में दिन में भी फ्लैग मार्च

आजम खां ने कहा कि रामपुर में अब तो रात को छोडि़ए, दिन में फ्लैग मार्च हो रहा है। लोगों से कहा जा रहा है कि अगर आपने समाजवादी पार्टी को वोट दिया तो आपसे घर खाली करा लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा का यहां पर काफी बड़ा अमला डटा है। कोई भी दिन ऐसा नहीं कि यहां पर महिलाओं और बेटियों से अभद्रता नहीं की जा रही हो। रामपुर से सांसद रहीं हमारी पत्नी को भी चेतावनी दी गई है। लोगों के घरों के दरवाजे तोड़े जा रहे हैं।

सपा प्रत्याशी पर काफी दबाव

आजम खां ने कहा कि यहां से हमारी पार्टी के प्रत्याशी आसिम राजा के ऊपर काफी दबाव है। उनको प्रचार करने से भी रोका जा रहा है। वह ऐसा शख्स है जो कि बेदाग इंसान है। पठान नहीं है, लेकिन इंसान है। ऐसे में उनका चुनाव में रहने का कोई मतलब है ही नहीं, लेकिन इसका मतलब यह तो नहीं कि हम दहशत के माहौल में उसका साथ छोड़ दें। उसको रामपुर की जनता को वोट देकर अपने नाम को बचाने का प्रयास जरूर करना चाहिए। यहां पर दहशत के माहौल में चुनाव के बीच में आप लोग वोट करने आएं।

उन्होंने कहा कि यह एक मकसूस आबादी का शहर है, इसी कारण यहां पर दमन की कार्रवाई की जा रही है। हम तो अब इन सबसे आजिज आ गए हैं। एक बार और प्रयास कर रहे हैं, जिससे कि इस शहर का नाम बरकरार रहे।  

Edited By: Dharmendra Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट