अयोध्या, जेएनएन। Coronavirus Effect: कोरोना वायरस के खतरे के बादल अब अयोध्‍या के लगने वाले रामनवमी के मेले पर छाने लगे हैं। बुधवार को तुलसी स्मारक भवन में होने वाली रामनवमी मेले संबंधी बैठक भी कोरोना के बढ़ते खतरे को देख स्थगित कर दी गई। बैठक में संतों व स्थानीय गणमान्य के साथ वर्ता कर 25 मार्च से शुरू होने वाले रामनवमी के मेले की तैयारियों का जिला प्रशासन जानकारी लेने वाला था। बता दें, नवंबर में सुप्रीम कोर्ट के अयोध्या मामले में फैसले के बाद यह पहला उत्‍सव होगा। इसीलिए इस साल इसे और भी ज्यादा खास माना जा रहा है।

मेले के दौरान कोरोना के संक्रमण की रोकथाम को प्रशासन तैयार 

25 मार्च से ही अयोध्या में रामनवमी का मेला भी शुरू हो रहा है जो कि 2 अप्रैल तक चलेगा। इस दौरान श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती है। कोरोना वायरस से सतर्कता के मौजूदा हालात में इस मेले में होने वाली रामभक्तों की भारी जुटान अयोध्या जिला प्रशासन के लिए चिन्ता का सबब बनी हुई है। फिलहाल मेला स्थगित नहीं होगा। अयोध्या के जिलाधिकारी अनुज कुमार झा के मुताबिक, रामनवमी के मेले में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ने को लेकर अयोध्या जिला प्रशासन पूरी तरह सतर्क है। मेला शुरू होने से पहले प्रशासन की ओर से कोरोना वायरस से बचाव के लिए एडवाइजरी जारी की जाएगी। फिलहाल डरने या घबराने की जरूरत नहीं है।  

20 मार्च तक हैंडओवर करें वैकल्पिक गर्भगृह 

25 मार्च को ब्रह्म मुहूर्त में रामलला को वैकल्पिक गर्भगृह में शिफ्ट करने की तैयारी में लगे श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने डीएम से नवनिर्मित वैकल्पिक गर्भगृह 20 मार्च तक हैंडओवर करने को कहा है। पूर्व में गर्भगृह को हैंडओवर करने की 23 मार्च की तिथि नियत थी, पर गर्भगृह में 20 मार्च से ही रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा का अनुष्ठान शुरू कराने को लेकर तीन दिन पूर्व ही गर्भगृह हैंडओवर करने को कहा गया है।

 

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस