खेत में काम कर रहा था, भरोसा ही नहीं हुआ : सकलदीप राजभर

भाजपा का टिकट मिलने के बाद सकलदीप राजभर सर्वाधिक आह्लादित दिखे। नामांकन के बाद उन्होंने पत्रकारों से कहा कि जब भाजपा मुख्यालय से उनके पास सूचना गई कि वह राज्यसभा के उम्मीदवार बनाये जा रहे हैं तब वह खेत में काम कर रहे थे। सहसा भरोसा नहीं हुआ लेकिन, फिर यही लगा कि यह दीनदयाल उपाध्याय के सपनों को साकार करने वाली पार्टी है। यहां कुछ भी असंभव नहीं है। सामान्य कार्यकर्ता को यहीं राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रधानमंत्री बनने का अवसर मिल सकता है। सकलदीप ने कहा कि दीनदयाल के सपनों का उत्तर प्रदेश बनाने के लिए मैं अपना पूरा योगदान दूंगा। उन्होंने केंद्रीय और प्रदेश नेतृत्व के प्रति आभार जताया। राजभर ने कहा कि वह पिछड़ों के हक के लिए संघर्ष करते रहे हैं।

परिचय : बलिया जिले के बिहरा हरपुर निवासी सकलदीप राजभर अपनी बिरादरी के बीच लोकप्रिय हैं। अपने गांव के प्रधान के तौर पर उन्होंने बेहतर काम किये। खेती करने वाले राजभर कोर्ट में मोहर्रिर का भी काम करते रहे हैं। भाजपा ने 2002 में उन्हें सीयर विधानसभा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया था लेकिन, वह हार गए।

मोदी के संकल्प में मेरा गिलहरी प्रयास : अनिल जैन

भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री डॉ. अनिल जैन ने राज्यसभा के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद पत्रकारों से कहा कि पूरी निष्ठा से राष्ट्र को परम वैभव की ओर ले जाने का काम करूंगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के प्रति आभार जताते हुए उन्होंने कहा कि मोदी के राष्ट्र गौरव के संकल्प में वह गिलहरी की तरह अपना योगदान देते रहेंगे। जैन ने कहा कि मैं उत्तर प्रदेश का हूं और यहां का कर्ज उतार नहीं सकता। डबल इंजन की मोदी-योगी सरकार इस प्रदेश को देश का नंबर वन प्रदेश बनाएगी।

परिचय : फीरोजाबाद के निवासी डॉ. अनिल जैन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और विद्यार्थी परिषद से होकर भाजपा में आये। वह राष्ट्रीय महासचिव होने के साथ ही हरियाणा और छत्तीसगढ़ के प्रभारी का भी दायित्व निर्वहन कर रहे हैं।

2022 तक किसानों की आय करेंगे दोगुना : विजय पाल सिंह तोमर

नामांकन के बाद विजय पाल सिंह तोमर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रति आभार जताया। कहा, मैं कसौटी पर खरा उतरने की कोशिश करूंगा। प्रधानमंत्री ने किसानों की आय दोगुना करने के लिए 2022 का लक्ष्य दिया है और मेरी पूरी कोशिश होगी कि 2022 से पहले किसानों की आमदनी दोगुनी हो।

परिचय : भाजपा किसान मोर्चा के अध्यक्ष रह चुके विजय पाल सिंह तोमर जनता दल के टिकट पर मेरठ की सरधना सीट से एक बार विधायक भी रह चुके हैं। मेरठ निवासी तोमर किसानों की समस्याओं को लेकर लड़ते रहे हैं। उन्होंने भाजपा में प्रदेश इकाई से लेकर केंद्र तक किसानों के संगठन को मजबूत किया।

भाजपा बड़े मन की पार्टी : अशोक बाजपेयी

अशोक वाजपेयी ने नामांकन के बाद केंद्रीय और प्रांतीय नेतृत्व के प्रति आभार जताया। कहा, भाजपा कितने बड़े मन की पार्टी है यह सोचा भी नहीं था। जिस दल में 40 साल बिताया उसने कदम-कदम पर अपमान किया लेकिन, महज पांच महीने में जो सम्मान भाजपा ने मुझे दिया वह कोई और नहीं दे सकता है। मैं भाजपा को जितनी ताकत दे सकता हूं, दूंगा और सबकी अपेक्षा पर खरा उतरूंगा।

परिचय : अशोक वाजपेयी चार दशक तक समाजवादी रहे। वह प्रदेश के ब्राह्मण नेताओं खासकर कान्यकुब्ज पट्टी में लोकप्रिय हैं। हरदोई जिले के निवासी वाजपेयी विधान सभा और विधान परिषद दोनों का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। 1977 की जनता पार्टी की सरकार में वह मंत्री बने। वह सात बार विधायक रहे। 2014 में सपा ने लखनऊ लोकसभा से उन्हें उम्मीदवार घोषित किया लेकिन, बाद में टिकट काट दिया।

भाजपा को मजबूत करेंगे : हरनाथ सिंह यादव

हरनाथ सिंह यादव ने कहा कि सपा संकुचित मन की पार्टी है। भाजपा से उनका बहुत पुराना नाता है। वह भाजपा को और मजबूत करेंगे। यादव ने कहा कि यह उनकी खुशकिस्मती है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय ने उन पर भरोसा किया है। राज्यसभा में वह पिछड़ों और वंचितों की आवाज बनेंगे और केंद्र और प्रदेश सरकार की नीतियों और विकास कार्यों को जन-जन तक पहुंचाने का काम करेंगे।

परिचय : एटा के मूल निवासी हरनाथ सिंह यादव भाजपा के पुराने कार्यकर्ता हैं। वह दो बार आगरा स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से एमएलसी रहे। भाजपा से वह 1990 में एमएलसी का चुनाव हार गए थे लेकिन, बाद में वह निर्दल और सपा के टिकट पर चुनाव जीत गए। पिछली बार सपा ने उन्हें एमएलसी का टिकट नहीं दिया तो सपा छोड़कर वह फिर भाजपा में लौट आये।

उप्र से जुड़ाव मेरा सौभाग्य : जीवीएल नरसिम्हा राव

जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा कि मैं केंद्रीय नेतृत्व और उप्र भाजपा का शुक्रगुजार हूं कि मुझे यहां मौका मिला। राम और कृष्ण की धरती से मुझे प्रतिनिधित्व का मौका मिला है। मैं भाजपा और आम जनता की अपेक्षा पर हमेशा खरा उतरूंगा। मेरी कोशिश होगी कि केंद्र और प्रदेश सरकार की नीतियों का क्रियान्वयन हो और आम आदमी तक उसका लाभ पहुंचे।

परिचय : आंध्र प्रदेश के निवासी जीवीएल नरसिम्हा राव भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं। 2011 में उन्होंने मोदी के प्रधानमंत्री बनने की भविष्यवाणी की थी। नरसिम्हा ने कई किताबें भी लिखी है।

दलित का बढ़ाया सम्मान : कांता कर्दम

भाजपा की प्रदेश उपाध्यक्ष कांता कर्दम ने भाजपा नेतृत्व के प्रति आभार जताया। कहा कि पार्टी ने दलित का सम्मान बढ़ाया है। वह दलितों के हितों के लिये काम करेंगी और पार्टी की अपेक्षा पर खरा उतरेंगी। कहा, मुझे पार्टी ने महिलाओं के हक के लिए भी काम करने का मौका दिया है।

परिचय : मेरठ निवासी कांता कर्दम भाजपा की प्रदेश उपाध्यक्ष हैं। वह केशव प्रसाद मौर्य की कमेटी में भी उपाध्यक्ष रहीं। हाल में मेरठ नगर निगम चुनाव में पार्टी ने उन्हें महापौर का उम्मीदवार बनाया था लेकिन, वह हार गईं। कांता विधानसभा चुनाव में भी पराजित हो चुकी हैं।

दूसरे दल में घुटन महसूस करने वाले भी देंगे वोट : अनिल अग्रवाल

भाजपा के पास अपने नवें उम्मीदवार की जीत के लिये पर्याप्त मत नहीं हैं लेकिन, नवें उम्मीदवार अनिल अग्रवाल को अपनी जीत का पक्का भरोसा है। अग्रवाल ने नामांकन के बाद कहा कि पार्टी के पास पर्याप्त संख्या बल है। मोदी के विकास से प्रभावित होकर निर्दलीय, छोटे दल और दूसरे दल में घुटन महसूस करने वाले उन्हें वोट देंगे। अग्रवाल ने कहा कि वह भाजपा के पक्के सिपाही हैं। वह गाजियाबाद में शिक्षण संस्थान चलाते हैं और शैक्षणिक उत्थान उनका मकसद है।

परिचय : कभी गाजियाबाद विकास प्राधिकरण में अभियंता रहे अनिल अग्रवाल अब दिल्ली-देहरादून हाइवे पर शैक्षणिक संस्थान चलाते हैं। वह कई स्कूल और कालेज के मालिक हैं। 2014 में शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से विधान परिषद का चुनाव भी लड़ चुके हैं। उन्होंने बहुत ही मजबूती से शिक्षक विधायक का चुनाव लड़ा लेकिन, हार गए।

पार्टी के आदेश पर किया नामांकन : विश्नोई

भाजपा ने सलिल विश्नोई का नाम राज्यसभा के लिए घोषित नहीं किया लेकिन, विश्नोई ने नामांकन किया है। यह पूछे जाने पर कि आप तो अधिकृत उम्मीदवार नहीं हैं? विश्नोई ने कहा कि पार्टी का निष्ठावान सिपाही हूं। पार्टी ने आदेश किया तो हमने नामांकन कर दिया। विश्नोई ने कहा कि भाजपा नौ उम्मीदवार लड़ाएगी। जिसे कहेगी, दो लोग अपना नामांकन वापस ले लेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा ही इस देश और प्रदेश का विकास कर सकती है।

परिचय : भाजपा के दो बार से प्रदेश महामंत्री सलिल विश्नोई कानपुर के आर्यनगर के निवासी हैं। विश्नोई के पिता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संघ चालक थे। सलिल विश्नोई 2002 से 2017 तक तीन बार भाजपा के विधायक रहे हैं। 2017 में वह विधानसभा चुनाव हार गए।

चुप्पी साधे हैं विद्यासागर सोनकर

भाजपा महामंत्री विद्या सागर सोनकर अपनी उम्मीदवारी पर चुप्पी साधे हैं। पार्टी ने उनका नाम घोषित नहीं किया था लेकिन, अचानक उन्होंने भी पर्चा भर दिया।

परिचय : मूलत: जौनपुर के रहने वाले विद्यासागर सोनकर गाजीपुर के सैदपुर क्षेत्र से एक बार सांसद रह चुके हैं। भाजपा में वह जौनपुर के जिलाध्यक्ष से लेकर प्रदेश महामंत्री तक कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे। पिछले विधानसभा चुनाव में सोनकर को भाजपा ने सैदपुर क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया लेकिन, वह हार गए।

 

Posted By: Ashish Mishra