लखनऊ, जेएनएन। मकर संक्रांति के बाद हर साल करवट लेने वाले मौसम का मिजाज भी वर्ष 2020 में ट्वेंटी-20 के तेवर दिखा रहा है। ठंड से कांप रहे उत्तर प्रदेश के आधे से ज्यादा हिस्से में बादलों ने इस कदर डेरा डाल रखा है कि छंटने का नाम नहीं ले रहे। बुधवार आधी रात के बाद से प्रदेश के करीब 37 जिलों में शुरू हुई बारिश गुरुवार को सावन की झड़ी बन गई। वैज्ञानिकों के मुताबिक, आमतौर पर 16 जनवरी तक औसतन 9.1 मिली मीटर (मिमी) बारिश होती है, लेकिन प्रदेश में पिछले 24 घंटे के भीतर ही यह आंकड़ा 13.4 मिमी पहुंच गया। यह औसत से करीब 147.7 फीसद अधिक है। बाराबंकी, गोंडा, कानपुर में सबसे ज्यादा बारिश हुई। खेती पर इसका मिला जुला असर पड़ा है। 

मौसम विभाग ने शुक्रवार को बारिश की संभावना जताई थी, लेकिन गुरुवार आधी रात से ही तेज बारिश की शुरुआत हो गई। लखनऊ में देर रात तक वर्षा होती रही। बरसात के कारण कई जिलों में तापमान ज्यादा तो नहीं मगर कुछ हद तक लुढ़का है। लखनऊ का अधिकतम पारा सामान्य से छह डिग्री कम 15.8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया, जबकि न्यूनतम तापमान सात डिग्री अधिक 14 डिग्री सेल्सियस रहा। लखनऊ के आसपास के जिलों में भी बारिश का सिलसिला बना रहा। गोरखपुर व प्रयागराज में बारिश तो नहीं हुई, लेकिन बादल जमे रहे। मेरठ, बागपत समेत कई स्थानों पर बारिश के साथ ओलावृष्टि हुई। मेरठ में न्यूनतम तापमान गिरकर नौ, बागपत व शामली में आठ, बुलंदशहर में 11 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। बिजनौर, मुजफ्फरनगर और सहारनपुर में सात डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया।

अब दो दिन हल्की बारिश

मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता के मुताबिक, जम्मू-कश्मीर के पास विक्षोभ बना हुआ है। इस कारण बारिश ने जोर पकड़ा है। अभी यह सिलसिला शनिवार तक जारी रहेगा। इस दौरान प्रदेश के विभिन्न इलाकों में हल्की बारिश होगी।

यह भी पढ़ें : सीएम योगी ने अफसरों को दिये निर्देश, ठंड और बारिश से प्रभावितों तक तत्काल पहुंचाएं मदद

यह भी पढ़ें : यूपी में सर्दी के मौसम में लगातार बारिश से फसलों को बड़ा नुकसान...और महंगी होंगी सब्जियां

2012 में हुई रिकॉर्डतोड़ बारिश

24 घंटे से ज्यादा हो रही बरसात ने भले ही लोगों को परेशान कर दिया है, लेकिन 2012 में जनवरी ने इससे भी तल्ख तेवर दिखाए थे। तब लखनऊ में 24 घंटे के भीतर 55 मिमी पानी गिरा था। जबकि इस दफा प्रदेश में जनवरी की 16 तारीख तक हुई बारिश ने पिछले दो साल का रिकॉर्ड तोड़ा है। वर्ष 2018-19 में इस दौरान महज 0.7 मिमी बारिश हुई। 2017-18 में 16 जनवरी तक बारिश नहीं हुई। जबकि इस बार यानी वर्ष 2019-20 में सामान्य 9.1 एमएम बारिश के अनुपात में अब तक 13.4 पानी गिर चुका है, जो 147.7 फीसद अधिक है।

बाराबंकी में एक की मौत

बाराबंकी में लगातार बारिश के चलते दीवार ढहने से एक महिला की मौत हो गई। मृतका का नाम मोबानी खातून (65) निवासी मोहम्मदपुर खाला बताया गया।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस