लखनऊ, जेएनएन। Indian Railway: रेल कर्मियों ने निजीकरण व निगमीकरण के विरोध में आवाज बुलंद करनी शुरू कर दी है। मंगलवार को चारबाग स्टेशन पर नार्दर्न रेलवे मजदूर यूनियन के बैनर तले रेल कर्मियों ने आवाज उठाई। मंडल मंत्री आरके पांडे ने बताया कि 19 सितंबर तक निजीकरण  के विरोध में  जन जागरण अभियान चलाया जाएगा। वहीं ऑल इंडिया रेलवे फेडरेशन के  आह्वान पर 19 सितंबर की शाम आठ  बजे रेल कर्मचारी अपने  घरों की  बिजली दस मिनट के लिए बंद करके विरोध जताएंगे। 

ऑल इंडिया रेलवे फेडरेशन के महामंत्री शिव गोपाल मिश्रा ने बताया कि देशभर के सभी जोनल, मंडल, कारखाना और अन्य इकाइयों में यूनियन के पदाधिकारियों को अभियान को सफल बनाने के लिये 19 सितंबर तक क्रमवार जारी किया। इसके तहत लखनऊ रेलवे स्टेशन पर भोजनावकाश के समय नार्दर्न रेलवे मेन्स यूनियन, वाणिज्य एवं परिचालन शाखा द्वारा शारीरिक दूरी पालन करते हुए विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में मंडल मंत्री आर.के. पाण्डेय, सहायक मंडल मंत्री राकेश कनोजिया, शाखा मंत्री विभूति मिश्र और मक़सूद वारसी द्वारा रेल में निजीकरण व निगमीकरण एवं मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी हुई। मंडल मंत्री आर.के.पाण्डेय ने कहा कि अब समय

अपने हितों के लिए केंद्र  सरकार और रेल मंत्रालय से मांग कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि मंत्रालय रेल कर्मियों कि इच्छा के विपरीत निगमीकरण और निजीकरण आदि की योजनाओं को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। इससे सरकार की मंशा साफ हो गयी कि वह कर्मचारियों के विपरीत है।उधर एनई रेलवे मजदूर यूनियन के बैनर तले मंडल मंत्री अजय कुमार वर्मा, शाखा मंत्री अनिल कुमार निरंजन और सफर हुसैन के नेतृत्व में मंडल मुख्यालय पर प्रदर्शन किया गया। 

जनजागरण अभियान के कार्यक्रम 

  • 16 सितंबर को प्रबुद्ध लोगों और विशेषज्ञों के साथ वेबिनार के जरिए चर्चा 
  • 17 सितंबर को रेलवे कालोनियों में दो पहिया वाहन रैली 
  • 18 सितंबर को को रेलवे कालोनियों में शाम को मशाल जुलूस 
  • 19 सितंबर को को रात्रि 8 बजे 10 मिनट तक सभी घरों की लाइट बंद करके अभियान का समापन।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस