लखनऊ, जेएनएन। लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के सीनियर छात्र बेलगाम हो गए हैं। कर्मियों से मारपीट के साथ वह जूनियर छात्रों की बार-बार रैगिंग कर रहे हैं। वहीं सख्त कार्रवाई न होने से उनके हौसले बुलंद हैं। अब हॉस्टल में रैगिंग का नया मामला सामने आया है। 

लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में वर्ष 2017 से एमबीबीएस पाठ्यक्रम शुरू हुआ। दो बैच में 150-150 छात्र रहे। वहीं इस बार 200 छात्रों को दाखिला मिला। 16 अगस्त से शुरू हुए शैक्षिक सत्र से तीसरी बार रैगिंग की घटना हुई। सीनियर छात्रों ने जूनियर्स के हॉस्टल में घुसकर अभद्रता की। उनके साथ गाली-गलौज किया। ऐसे में सहमे जूनियर छात्रों ने मामले की दो शिकायतें एंटी रैगिंग सेल में दर्ज कराई है। संस्थान के प्रवक्ता डॉ. विक्रम सिंह ने रैगिंग की शिकायत की पुष्टि की। साथ ही जांच कर आरोपी छात्रों पर कार्रवाई का दावा किया।

पहली बार में नोटिस देकर छोड़ा

लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में पहली बार एक सितंबर 2019 को रैगिंग की घटना प्रकाश में आई। पीडि़तों ने यूजीसी के एंटी रैगिंग सेल में शिकायत की। वहीं आरोपित छात्रों को नोटिस देकर छोड़ दिया गया।

छात्रों के जीरो कट बाल कराए

पहली बार में रैगिंग पर कार्रवाई न होने से सीनियर्स के हौसले बुलंद हो गए। उन्होंने सभी जूनियर्स को जीरो कट बाल करने का फरमान सुना दिया। वहीं हॉस्टल से क्लास तक सिर नीचे झुकाकर चलने का आदेश दिया। यह घटना 29 सितंबर को उजागर हुई। वहीं संस्थान प्रशासन ने इसे अनुशासन बताकर रैगिंग मानने से इन्कार कर दिया।

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप