रायबरेली, जागरण संवाददाता। गुरुवार की रात जनसेवा केंद्र संचालक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। उसके शरीर पर मिले जख्म देख स्वजन गोली लगने की आशंका जता रहे, लेकिन पुलिस दुर्घटना का मामला बता रही। हकीकत क्या है, इसकी पुष्टि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हो सकेगी। घटना गुरुवार की रात हुई। रायबरेली-महाराजगंज रोड पर हनुमंत ट्रेडर्स के पास सहज जन सेवा केंद्र के संचालक नंदा का पुरवा डिडौली निवासी अंकुर मरणासन्न अवस्था में पड़े थे। गढ़ी गांव के कुछ लोगों की नजर पड़ी तो उन्होंने निजी वाहन से युवक को जिला अस्पताल भेजा। वहां पहुंचने से पहले ही उसकी मौत हो गई।

आनन फानन नंबरों की तलाश कर परिवारजन एवं रिश्तेदारों को सूचना दी गई। रात में ही लोग जिला अस्पताल पहुंचे। मृतक के सीने पर गहराई में गोली लगने जैसे निशान दिखे। इससे परिवारजन हत्या की आशंका जता रहे। अंकुर का मकान हाईवे के किनारे बना है, परिवार के लोग इसी में रहते हैं। इसके अलावा अखिलेश पुरम गढ़ी के निकट एक और मकान निर्माणाधीन है। स्वजन शिव शरण सिंह एवं रामसुख ने बताया कि अंकुर की मोटरसाइकिल निर्माणाधीन मकान के निकट खड़ी है। वह किसी के संग ही त्रिपुला के निकट स्थित जन सेवा केंद्र से काम निपटाने के बाद निकला होगा। उसकी अभी शादी नहीं हुई थी। थानाध्यक्ष बृजेश कुमार राय ने बताया कि दुर्घटना में युवक के घायल होने की सूचना मिली थी। अभी यह नहीं कहा जा सकता है कि उसकी हत्या की गई है। पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। रिपोर्ट आने के बाद स्पष्ट होगा।

Edited By: Vikas Mishra