लखनऊ, राज्य ब्यूरो। प्रदेश के प्राथमिक स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई के साथ ही श्रमिकों की कमाई भी हो सकेगी। वजह, आपरेशन कायाकल्प के तहत प्राइमरी स्कूलों में स्मार्ट क्लास के साथ किचन वाटिका भी तैयार की जाएगी। वहां आवारा जानवरों व बाहरी लोगों के प्रवेश रोकने के लिए चहारदीवारी और खेल का मैदान भी बनेगा। वाटिका व चहारदीवारी निर्माण के लिए मनरेगा के तहत प्रवासी श्रमिकों को रोजगार मिलेगा।

प्रदेश सरकार आपरेशन कायाकल्प के तहत एक करोड़ 30 लाख से अधिक स्कूलों की सूरत बदल रही है। स्कूलों में मूलभूत सुविधाओं के साथ अन्य सुविधाएं जोड़ी जा रही हैं। अधिकारियों ने बताया कि प्राइमरी स्कूलों में किचन वाटिका का निर्माण भी कराया जाएगा। इसमें सब्जियों के साथ औषधीय पौधे लगाए जाएंगे। शिक्षकों छात्रों को औषधीय पौधों से होने वाले लाभ के बारे में जानकारी देंगे। खासकर ग्रामीण क्षेत्र में स्थित परिषदीय विद्यालयों में प्राथमिकता के आधार पर इनको तैयार किया जाएगा। स्कूलों में होने वाले कार्य में गांव में ही रहने वाले प्रवासी श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। प्राइमरी स्कूलों में आपरेशन कायाकल्प के तहत हो रहे कार्य को हर महीने निर्धारित प्रारूप पर प्रेरणा पोर्टल पर अपलोड करना होगा। इसके बाद बेसिक शिक्षा अधिकारी हर माह 10 तारीख को अपलोड किए गए डाटा की जांच कर अपनी रिपोर्ट आनलाइन देंगे।

बता दें कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार सूबे में प्राइमरी को आगे बढ़ाने के लिए तमाम जतन कर रही है। हालांकि, कड़ी मशक्कत के बाद यूपी के प्राथमिक विद्यालयों की तस्वीर पहले की तुलना में काफी बेहतर हो गई है। इसका श्रेय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जाता। सीएम ने प्रदेश में बेहतर शिक्षा के लिए लगातार अच्छा प्रयास किया। वह स्वंय प्राइमरी स्कूलों की स्वंय निगरानी कर रहे हैं। इन दिनों यूपी के प्राइमरी स्कूलों में अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई हो रही है। 

Edited By: Vikas Mishra