लखनऊ, जेएनएन । जागरण यूथ पार्लियामेंट के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन युवा सांसदों ने जनसंख्या नियंत्रण का मुद्दा उठाया। होटल बेबीयन इन, इंदिरा नगर में पक्ष-विपक्ष में उठीं आवाजों के बीच बिल को स्टैंडिंग कमेटी के पास भेज दिया गया।

प्राइवेट मेंबर बिल के साथ सत्र की शुरुआत हुई। युवा सांसद विनायक पाठक ने प्राइवेट मेंबर बिल वन नेशन-वन एजुकेशन बिल-2019 सामने रखा। युवा सांसद सत्यम और कनिष्का के सवालों का विनायक पाठक ने जवाब दिया। वहीं युवा सांसद मनोज ने फीस स्ट्रक्चर पर सवाल किया। ऋषिकेश और विशेष ने भी अपनी शंका जाहिर की। 

इसके बाद मानव संसाधन मंत्री दिव्यांशु ने जनसंख्या नियंत्रण बिल, 2016 पेश किया। विपक्ष के नेता की अनुपस्थिति में सत्यम को प्रश्न करने का मौका दिया गया। इसके बाद कनिष्का, मनोज और मानवेंद्र ने बिल से जुड़े सवाल किए। इस पर पक्ष के नेता विनायक, दिव्यांशु, शुभ्रा, सोमनाथ, राघव, त्रियंबकम, ज्योति, विशाल, शिवांगी, अमन और ऋषिकेश ने अपनी बातें रखीं। पक्ष और विपक्ष की ओर से बिल के संबंध में कई सुझाव दिए गए। 

सांसद राघव ने सभापति से एक स्टैंडिंग कमेटी के गठन का अनुरोध किया। जिसके जरिए चर्चा के दौरान उठीं बातों को बिल में शामिल किया जा सके।

आठ जनवरी को आएगी स्टैंडिंग कमेटी की रिपोर्ट स्टैंडिंग कमेटी में सांसद विनायक, ऋषिकेश और मानवेंद्र शामिल हैं। स्टैंडिंग कमेटी बिल की कमियों को दूर करने के साथ ही चर्चा के दौरान शामिल बिंदुओं को इसमें शामिल करेगी। शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन आठ जनवरी को कमेटी अपनी रिपोर्ट जमा करेगी।

चर्चा में निकलीं अहम बातें

  • यह बिल हम दो हमारे दो की नीति पर आधारित है, जो वाजिब है। 
  • हम जनसंख्या नियंत्रण की कई योजनाएं चला रहे हैं, पर जब तक कानून नहीं होगा लोग परवाह नहीं करेंगे। 
  • जिसके दो बच्चों से ज्यादा हों उसे सरकारी सुविधाएं नहीं मिलनी चाहिए। 
  • जाति, धर्म और संप्रदाय का भेदभाव किए बिना सबके लिए सख्त कानून बनना चाहिए। 

बढ़ती जनसंख्या उन्नति में बाधा 

प्रजेंटेशन के जरिए बढ़ती जनसंख्या की भयावह तस्वीर भी सामने रखी गई। संस्था टफ एंड होप की प्रोग्राम एसोसिएट पौषाली सरकार ने वीडियो प्रजेंटेशन के जरिए बढ़ती जनसंख्या के विभिन्न पहलूओं को समझाया। बताया गया कि किस तरह बढ़ती जनसंख्या देश की उन्नति में बाधक बन रही है।

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस