लखनऊ, राज्य ब्यूरो। विधानसभा चुनाव से पहले जिस तरह प्रदेश में राजनीतिक सरगर्मियां लगातार बढ़ रही हैं, उसके दृष्टिगत पुलिस ने भी शांति-व्यवस्था बनाए रखने के लिए अपनी कमर कसनी शुरू कर दी है। आने वाले दिनों में रैलियों और सभाओं के दौरान आत्याधुनिक उपकरणों की मदद से मजबूत सुरक्षा घेरा बनाए जाने पर जोर दिया जा रहा है। डीजीपी मुकुल गोयल ने बुधवार को समीक्षा बैठक में पुलिसकर्मियों के बाडीवार्न कैमरे का अत्यधिक उपयोग करने का निर्देश दिया। कहा कि ड्रोन कैमरों का उपयोग बढ़ाया जाए। डीजीपी ने इसके अलावा पिंक बूथ पर महिला पुलिसकर्मियों की नियुक्ति व उनके प्रशिक्षण को लेकर भी कड़े निर्देश दिए।

पुलिस मुख्यालय में एडीजी लाजिस्टिक, एडीजी कानून व्यवस्था, पुलिस आयुक्त लखनऊ, एडीजी यातायात व अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक में यातायात व्यवस्था को लेकर भी चर्चा की गई। डीजीपी ने कहा कि यातायात, कानून-व्यवस्था और अन्य महत्वपूर्ण ड्यूटी के दौरान पुलिसकर्मी बाडीवार्न कैमरों का अधिक से अधिक उपयोग करें। इसके लिए एसओपी का पूरी तरह से पालन सुनिश्चित कराया जाए। डीजीपी ने कहा कि पुलिसकर्मियों को रैली, सभाओं व अन्य महत्वपूर्ण ड्यूटियों के दौरान बाडीवार्न कैमरों के उपयोग व उपयोगिता की विस्तार से जानकारी भी दी जाए। ड्रोन कैमरों के संचालन के लिए प्रशिक्षित पुलिसकर्मियों को लगाया जाए और महत्वपूर्ण मौकों पर ड्रोन कैमरों का उपयोग बढ़ाया जाए। डीजीपी ने पिंक बूथ में नियुक्त महिला पुलिस कर्मियों को महिला संबंधी शिकायतों को निराकरण करने के निर्देश दिए।

Edited By: Vikas Mishra