लखनऊ(जेएनएन)। 'जब हो आपकी सुरक्षा की बारी तो फिर क्या आग क्या है पानी'.. यह मिसाल लखनऊ पुलिस के एक सिपाही सनी शेखावत ने अपने साहसपूर्ण काम से पेश की है।

दरअसल, बीते दिन शनिवार को राजधानी स्थित नक्खास के बंजारी टोला की घनी बस्ती के बीच स्थित व्यापारी नेता के कंबल और चाय की पत्ती के गोदाम में आग लग गई। अग्निकांड के दौरान कर्मचारी रजनीश का परिवार फंस गया। चौक कोतवाली के मूवर्स सिपाही सनी शेखावत और शाहछड़ा चौकी के पुलिस कर्मियों ने दरवाजे खिड़की तोड़कर लोगों को निकाला। इसमें सिपाही सनी शेखावत का हाथ फट गया। सिपाही के हाथ से लहू टपकता रहा, लेकिन उसने कर्तवयों का बखूबी पालन किया।  

ये है पूरा मामला
इंस्पेक्टर चौक के मुताबिक , अकबरी गेट व्यापार मंडल के वरिष्ठ उपाध्यक्ष मिर्जा महमूद हुसैन का नक्खास में गोल्डेन पैलेस के नाम से व्यवसायिक प्रतिष्ठान है। उसी में उनकी और उनके बेटे मंसूर महमूद की गोल्डेन टी एवं प्रोविजन सेंटर प्राइवेट लिमिटेड के नाम से फर्म है। बंजारी टोला बस्ती स्थित एक मकान में दूसरे तल पर उन्होंने गोदाम बना रखा है। गोदाम में भारी मात्रा में कंबल, चाय की पत्ती और कपड़े डंप थे। गोदाम में ही कर्मचारी रजनीश का परिवार रहता था। शनिवार को गोदाम से आग निकलते देख कर्मचारी ने शोर मचाना शुरू कर दिया। आस पड़ोस के लोग दौड़े, तबतक आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। 

दूसरे तल पर रहा रजनीश का परिवार आग में फंस गया। कुछ ही देर में चौक कोतवाली से मूवर्स 16 के सिपाही सनी शेखावत, शाहछड़ा चौकी प्रभारी राजेश, सिपाही अंकुर और दमकल कर्मी पहुंच गए। सिपाही सनी साहस का परिचय देते हुए ऊपर पहुंचा। उसने पुलिस कर्मियों की मदद से दरवाजे और खिड़की तोड़ी और परिवार को निकाल लिया। इसमें सनी का हाथ फट गया। चौकी प्रभारी राजेश घायल सनी को अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां से प्राथमिक उपचार के बाद उसे छुïट्टी दे दी गई। 

उधर, दमकल कर्मियों और लोगों ने एक घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया। हालांकि संकरी गालियां होने के कारण दमकल की गाडिय़ां नहीं पहुंच सकी। 

 

Posted By: Anurag Gupta