गोंडा, जेएनएन। जिन बच्‍चों को मां पाल पोसकर बड़ा करती है, वही बच्‍चे बड़े होकर उनकी जिम्‍मेदारी उठाने से कतराने लगते हैं। ऐसे ही एक मामले में जिले में  एक ऐसी अभागी मां थी जिसके मरने के बाद उसके तीन जवान बेटों ने अंतिम संस्‍कार करने से भी हाथ खींच लिया। तब पुलिस ने आगे आकर बेटों का फर्ज निभाया। चौकी इंचार्ज ने पैसे इकठ्ठे करके वृद्धा का अंतिम संस्‍कार कराया। जिसकी सराहना पूरा गांव कर रहा है।  

दुबहाबाजार चौकी इंचार्ज ने मानवता की मिसाल पेश करते हुए खुद के पैसे मृतका का अंतिम संस्कार कराया।

फिलहाल, खाकी के इस कार्य की लोग सराहना कर रहे हैं। मामला कौड़िया थानाक्षेत्र के दुबहा बाजार का है। यहां की निवासी कमला देवी (80) का शनिवार को निधन हो गया था। मृतका के तीन बेटे हैं, आपस में तालमेल न होने के और आर्थिक तंगी के चलते उन्होंने अंतिम संस्कार करने से इन्‍कार कर दिया। इसकी सूचना पाकर चौकी इंचार्ज राम प्रकाश यादव मृतका के घर पहुंच गए और बेटों को मनाने का प्रयास किया। काफी समझाने के बाद बेटों ने पैसा न होने की बात कही। ऐसे में  उन्होंने पैसे देकर ग्रामीणों की मदद से मृतका का अंतिम संस्कार खुद कराया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021